नयी दिल्ली: तेलुगू देशम पार्टी सुप्रीमो नारा चंद्रबाबू नायडू के सितारे गर्दिश में चल रहे हैं। करारी चुनावी हार के बाद अब चंद्रबाबू नायडू को अपने मुख्यमंत्रित्व कार्यकाल के दौरान कथित भ्रष्टाचार पर जांच का सामना भी करना पड़ सकता है। इस बारे में आंध्र प्रदेश के नामित मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने आदेश देने का मन बना लिया है। राज्य में भ्रष्टाचार मुक्त सरकार का वादा करते हुए रविवार को जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि वह पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू द्वारा शुरू किए गए राज्य की नयी राजधानी अमरावती के निर्माण कार्य, पोलावरम परियोजना और अन्य योजनाओं में कथित अनियमितताओं की जांच शुरू कराएंगे।

चुनाव पूर्व भी इस तरह के कयास लगाए जा रहे थे कि चंद्रबाबू नायडू की हालत ऐसी हो जाएगी कि उन्हें देश तक छोड़ना पड़ सकता है। उनके किए कथित भ्रष्टाचार को लेकर न सिर्फ राज्य की एजेंसिया जांच के लिए कमर कसेगी। बल्कि केंद्रीय एजेंसियां भी अपने स्तर चंद्रबाबू के खिलाफ मुकम्मल जांच शुरू कर सकती है।

वाई एस जगन मोहन रेड्डी विजयवाड़ा में 30 मई को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में प्रत्येक विभाग के कार्यों की समीक्षा के बाद इस संबंध में श्वेत पत्र जारी किया जायेगा। वह राज्य को विशेष श्रेणी का दर्जा के विषय पर चर्चा करने के लिए यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मिलने आए थे।

यह भी पढ़ें:

“मेरा चुनावी वादा गीता, कुरान और बाईबल के शब्द, लोगों की उम्मीदों पर उतरूंगा खरा” - YS जगन

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष ने यह भी कहा कि वह अकेले ही शपथ ग्रहण करेंगे और एक सप्ताह या 10 दिन में उनकी कैबिनेट का गठन होगा। उन्होंने कहा कि उनकी प्राथमिकता "नौ वृहद कल्याणकारी कार्यक्रमों'' संबंधी पार्टी के चुनावी वादों को लागू करने की होगी। रेड्डी ने यहां पत्रकारों से कहा, "मैंने अपने लोगों से वादा किया है और इन्हें पूरा करना मेरे लिये एक बड़ी जिम्मेदारी है। इसलिए मैं कोई जोखिम नहीं ले सकता। ईश्वर की कृपा से मैं इस दिशा में काम करूंगा।

मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करने के 50 दिन के अंदर मैं कार्ययोजना की रूपरेखा तैयार करूंगा।'' यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी सरकार राज्य की नयी राजधानी के निर्माण कार्य और पूर्ववर्ती सरकार द्वारा शुरू की गयी अन्य योजनाओं में कथित अनियमितताओं की जांच करेगी, इस पर रेड्डी ने कहा, "हमें इन घोटालों के संबंध में जांच करानी होगी...। ये कोई साधारण घोटालें नहीं हैं। ये सनसनीखेज घोटाले बनने वाले हैं।'' उन्होंने नायडू पर नयी राजधानी के जगह के नाम पर लोगों को भ्रमित करने और बेहद कम दर पर खुद के लिये जमीन खरीदने का भी आरोप लगाया।