हैदराबाद/अमरावती : देश में सातवें चरण के चुनाव समाप्त होते ही सबकी नजरें एग्जिट पोल के नतीजों पर है। खासकर आंध्र प्रदेश के एग्जिट पोल को लेकर लोगों में दिलचस्पी अधिक है। साढ़ेे चार साल तक केंद्र में बीजेपी के साथ रहकर अचानक बगावत पर उतरे मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायुडू ने केंद्र सरकार व निर्वाचन आयोग पर गंभीर आरोप लगाये हैं। साथ ही ईवीएम के सुचारू रूप से काम नहीं करने की भी शिकायत की है। इससे चंद्रबाबू की हताशा साफ झलकती है।

इसके अलावा आंध्र प्रदेश में विपक्ष के नेता और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने ऐतिहासिक लंबी पदयात्रा से लोगों का दिल जीता। इस दौरान उन्होंने आम लोगों की समस्याओं को सुना व लोगों के सुझाव लिये। इसके बाद ही वाई एस जगन मोहन ने घोषणापत्र तैयार किया। आंध्र प्रदेश के इतिहास में पहली बार लगभग 80 फीसदी तक मतदान दर्ज किया गया। जिसका फायदा किसे मिलेगा ये आज के एक्जिट पोल से साफ पता चल जाएगा।

फिर भी एग्जिट पोल के नतीजे से कोई भी सरकार बनाने का दावा नहीं कर सकता है और न ही कोई पार्टी हार स्वीकार कर सकती है। आखिर नतीजे तो 23 मई को ही आएंगे। मगर एग्जिट पोल राजनीतिक क्षेत्रों में जरूर थोड़ी सी उथल पुथल मचा सकती है।

यह भी पढ़ें :

AP : चित्तूर जिले के चंद्रगिरी में 11 बजे तक 32 फीसदी वोटिंग दर्ज