बांसवाड़ा : तेलंगाना के कांग्रेस नेताओं ने विधानसभा अध्यक्ष पोचारम श्रीनिवास रेड्डी से दलबदलू विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की अपील की।

कांग्रेस विधायक दल के नेता मल्लु भट्टि विक्रमार्क, पूर्व मंत्री शब्बीर अली ने मंगलवार को विधानसभा अध्यक्ष के बांसवाड़ा स्थित आवास पर स्पीकर से मुलाकात की। इस मौके पर उन्होंने स्पीकर से हाल ही में पार्टी बदलने वाले विधायकों पर अयोग्यता की गाज गिराने की अपील की। उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस विधायक दल का टीआरएस में विलय करने की कोशिश कर रही है और ऐसा करना संविधान के विरुद्ध है।

बाद में मीडिया से बातचीत में भट्टि विक्रमार्क ने बताया कि स्पीकर से इससे पहले कांग्रेस छोड़कर टीआरएस में शामिल हुए विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की अपील की है। उन्होंने कहा कि हाल ही में पार्टी छोड़ने वाले हरिप्रिया नायक, कंदाला उपेंदर रेड्डी, जूलाल सुरेंदर, चिरुमर्ति लिंगय्या को डिसक्वालीफाई करने के लिए नोटिस दिया गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री दिन दहाड़े लोकतंत्र की हत्या कर रहे हैं और इसी के तहत कांग्रेस पार्टी के विधायकों को टीआरएस में शामिल कर रहे हैं।

उन्होंने मुख्यमंत्री केसीआर पर कांग्रेस विधायकों को प्रलोभन देकर खरीदने का आरोप लगाया। उन्होंने बताया कि स्पीकर के हैदराबाद में नहीं होने की वजह से उन्हें बांसवाड़ा पहुंच कर उनसे मिलना पड़ा।

उन्होंने पूछा कि कांग्रेस पार्टी एक राष्ट्रीय दल है और उसका एक क्षेत्रीय दल में विलय कैसे कर सकते हैं? भट्टि ने कांग्रेस का टीआरएस में विलय करने को लेकर हाल ही में टीआरएस में शामिल हुए कुछ विधायकों के बयान का खंडन किया।

इसे भी पढ़ें :

काविद का टीआरएस में विलय की तैयारी!

उन्होंने कहा कि पार्टी का विलय बहुत बड़ी बात है, क्योंकि जब प्रजा राज्य पार्टी का कांग्रेस में विलय हुआ था, तब ग्राम कमेटियों से लेकर पार्टी प्रमुख तक सभी के प्रस्ताव चुनाव आयोग के पास भेजने पड़े थे। उसके बाद ही विलय प्रक्रिया पूरी की गई।

शब्बीर अली ने कहा कि दलबदलू विधायकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए स्पीकर से अपील की गई है। डिस क्वालीफाई पर नोटिस देते समय स्पीकर ने फोटो तक लेने की अनुमति नहीं दी। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के टिकट पर जीत चुके विधायकों को प्रलोभन देकर उन्हें टीआरएस में शामिल करवाया जा रहा है।