तो क्या चुनाव बाद चंद्रबाबू और लोकेश का ठिकाना होगा सिंगापुर?

चंद्रबाबू नायडू: डिजाइन इमेज - Sakshi Samachar

हैदराबाद: YSRP नेता और संयुक्त आंध्र प्रदेश के कद्दावर नेता व दिवंगत मुख्यमंत्री की विधवा लक्ष्मी पार्वती ने बड़ा बयान दिया है। उनके मुताबिक आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव में चंद्रबाबू नायडू की करारी हार तय है। राजनीतिक सत्ता गंवाने के बाद चंद्रबाबू और उनके बेटे लोकेश अपने पूर्व के किए घफलों के पर्दाफाश से बचने के लिए देश छोड़ सकते हैँ। लक्ष्मी पार्वती ने यहां तक कहा कि चंद्रबाबू और लोकेश सिंगापुर या फिर अन्य किसी देश में शरण ले सकते हैं। प्रेस से मुखातिब लक्ष्मी पार्वती ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू फिलहाल YS जगन मोहन रेड्डी की सियासी ताकत से काफी डरे हुए हैं।

पार्वती ने चंद्रबाबू को याद दिलाया कि उनके (बाबू) खिलाफ विभिन्न न्यायालयों में 26 मामले चल रहे हैं, जिनपर कोर्ट ने यथासत्थिति बरकरार रखने का आदेश दिया है। जल्दी ही इन मामलों पर सुनवाई होगी और चंद्रबाबू नायडू की सच्चाई सबके सामने आ जाएगी। पार्वती ने तंज कसते हुए कहा कि यूं तो चंद्रबाबू नायडू खुद को ईमानदार बताते नहीं थकते, जबकि वास्तविकता इसके उलट है। पार्वती ने एतराज जताया कि चंद्रबाबू खुद को अपने ईमानदार होने की सर्टिफिकेट देते फिरते हैं। लक्ष्मी पार्वती के मुताबिक कई ब्यरोक्रेट्स से चंद्रबाबू नायडू के गुप्त समझौते हैं। जिसका खुलासा जल्दी ही होने वाला है।

यह भी पढ़ें:

लक्ष्मी पार्वती ने CBI के पूर्व संयुक्त निदेशक को बताया चंद्रबाबू नायडू का आदमी

लक्ष्मी पार्वती ने आंध्र प्रदेश में डाटा चोरी मामले में चंद्रबाबू पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पार्वती के मुताबिक चंद्रबाबू सत्ता हासिल करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।

डाटा चोरी मामले के आरोपी अशोक देवकरण को शरण देने का भी पार्वती ने चंद्रबाबू पर आरोप लगाया। बता दें कि गंभीर आरोपों के तहत अशोक देवकरण को तेलंगाना पुलिस खोज रही है। जबकि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद बेशर्मी से आरोपी के बचाव में उतर आए हैं। लक्ष्मी पार्वती ने चंद्रबाबू पर नोट के बदले वोट मामले पर भी गंभीर आरोप लगाए।

Advertisement
Back to Top