तिरुपति : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को तिरुपति जाकर वेंकटेश्वर मंदिर में दर्शन किए। हालांकि राहुल गांधी का यह तिरुमला दौरा विवाद का कारण बन गया है। राहुल गांधी तिरुमाला की पहाड़ियों पर जूता पहनकर चढ़ते देखे गए। आमतौर पर श्रद्धालु यहां जूते या चप्पल नहीं पहनते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, तिरुमाला की पहाड़ियों पर चढ़ाई के वक्त भक्त जूता या चप्पल नहीं पहनते हैं। वह नंगे पैर ही जाकर भगवान के दर्शन करते हैं, लेकिन राहुल गांधी को पहाड़ी पर चढ़ाई करते वक्त जूता पहने देखा गया। इस वक्त उनके साथ कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेता भी मौजूद रहे, लेकिन किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

मंदिर जाते राहुल गांधी
मंदिर जाते राहुल गांधी

इस बारे में पूछे जाने पर एक कांग्रेसी नेता ने कहा कि इस विषय को तूल देने की जरूरत नहीं है। यह भक्ति से जुड़ा मामला है, इस पर विवाद न खड़ा किया जाए। वहीं लोगों का कहना है कि ऐसा कोई नियम नहीं है कि नंगे पैर ही पहाड़ी पर चढ़ाई की जाए। यह व्यक्ति की श्रद्धा पर निर्भर करता है।

बता दें कि राहुल गांधी ने तिरुमाला पहाड़ियों के शीर्ष पर बने मंदिर में पहुंचने से पहले 11 किमी की दूरी पैदल तय की। आमतौर पर भगवान वेंकटश्वर के मंदिर पहुंचने के लिए श्रद्धालु इसी रास्ते से जाते हैं। भगवान वेंकटेश्वर को भगवान बालाजी के नाम से भी पुकारते हैं।

लोगों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी
लोगों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

यह भी पढ़ें :

राहुल गांधी का लगातार पीछा क्यों कर रही है यह महिला रिपोर्टर

राहुल गांधी को रेणुका की खुली चेतावनी, बोली-खम्मम से नहीं मिला टिकट तो छोड़ दूंगी पार्टी

मंदिर में पूजा अर्चना के बाद राहुल गांधी ने तिरुपति में एक रैली को संबोधित किया। आंध्र प्रदेश में चुनाव का बिगुल फूंकते हुए राहुल गांधी ने वादा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव के बाद यदि कांग्रेस सत्ता में आती है तो राज्य को विशेष दर्जा देगी। कृषि ऋण माफी पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में इस संबंध में किये गये वादे को पूरा किया है।

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘मोदी देश में सबसे शक्तिशाली उद्योगपतियों का 3.5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ कर सकते हैं और कर्ज माफी दे सकते हैं लेकिन किसानों का रिण माफ नहीं कर सकते।'' राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस राज्य की सत्ता में आए या नहीं, लेकिन केंद्र की सत्ता में आई तो विशेष श्रेणी का दर्जा दिया जाएगा।