हैदराबाद: आंध्र प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं YSR कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष YS जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि चंद्रबाबू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आंध्र प्रदेश दौरे को लेकर अटपटा बयान दिया है। बीते साढ़े चार वर्ष में BJP के साथ गठबंधन बनाए रखने के बाद चंद्रबाबू ने उनसे नाता तोड़ दिया। उनके इस रवैये को लेकर सवालिया निशान पैदा हो रहा है। चंद्रबाबू ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने को लेकर लोगों को हमेशा गुमराह किया है। उन्होंने स्वार्थ की राजनीति करते हुए विशेष राज्य की बजाय विशेष पैकेज का मुद्दा उठाया था। विशेष पैकेज को ही संजीवनी बताया था। अब यू टर्न लेते हुए PM मोदी के दौरे पर केंद्र के रवैये के खिलाफ प्रदर्शन किया। चंद्रबाबू के गिरगिट की तरह रंग बदलने वाली आदत से लोगों के मन में सवाल उठ रहे हैं। YS जगन मोहन रेड्डी ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर संघर्ष जारी रखा है। बीते चुनाव से अब तक YSRCP ने विशेष राज्य के मुद्दे पर ही जोर दिया है। इस क्रम में YSRCP के पांच सांसदों ने इस्तीफे दिये।

YS जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू ने लोकतंत्र की अवहेलना की है। उन्होंने सत्ता का दुरुपयोग किया है। सर्वेक्षण के नाम पर लोगों को उन्होंने परोक्ष रूप से धमकाने का प्रयास किया है। TDP के नेताओं ने लोगों के साथ दंबगई की है। चिपुरुपल्ली में YSR कांग्रेस पार्टी के नेताओं को पुलिस ने परेशान किया। उनके खिलाफ फर्जी मामले दर्ज किये। YSRCP के नेताओं ने TDP की धांधलियों को उजागर किया था। इससे बौखलाए TDP नेताओं ने सत्ता का दुरुपयोग करते हुए परोक्ष रूप से पुलिस का सहयोग लिया और झूठे मामले दर्ज करवाये।

उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश की मतदाता सूची में फर्जी मतदाताओं की संख्या बढ़ गई है। सूची में लगभग 59 लाख फर्जी मतदाता शामिल हैं।

इन मतदाताओं के नाम सूची से हटाने के लिए YS जगन मोहन रेड्डी ने राज्यपाल ESL नरसिम्हन से मुलाकात की। YSR कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश के विकास को लेकर हमेशा नजरअंदाज किया है। सत्ता का दुरुपयोग करते हुए उन्होंने लोगों की मौलिक सुविधाओं को उपलब्ध नहीं कराया है।

प्रशांत किशोर (PK) ने सवाल किया कि TDP की दबंगई और फर्जी वोटरों को लेकर सोशल मीडिया में अन्य राजनीतिक दल क्यों कुछ नहीं कह रहे हैं? लोगों के मौलिक अधिकारों का हनन क्यों हो रहा है?

इसे भी पढ़ें:

चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश की संस्कृति को डूबो दिया: PM मोदी

YS जगन मोहन रेड्डी 14 फरवरी को मंगलगिरी के निकट ताडेपल्ली में नूतन गृहप्रवेश करेंगे। साथ ही पार्टी के केंद्रीय कार्यालय का भी उद्घाटन करेंगे। लोगों को प्रजा संकल्प यात्रा के दौरान दिये गये भरोसे को पूरा करने के उद्देश्य से पार्टी की स्थिति और मजबूत बनाने पर जोर दिया जा रहा है। बूथ लेवल पर समितियां बनाई जा रही हैं और उन्हें आवश्यक निर्देश दिये जा रहे हैं। YSRCP के इस कदम को देखते हुए चंद्रबाबू को आगामी चुनाव में हार का डर सता रहा है।

नेल्लूर: चंद्रबाबू का सोशल मीडिया पर किया गया बयान शर्मनाक है। मुख्यमंत्री लोगों के साथ दबंगई करने पर उतर आये हैं। उन्होंने TDP को वोट देने के लिए परोक्ष रूप से धमकाने का प्रयास किया है। कोई यह नहीं जानता कि चंद्रबाबू लोगों को वोट के लिए किस तरह डरायेंगे। चुनाव के नजदीक आने पर चंद्रबाबू ने अपने रवैये में बदलाव किया है। लोगों को परोक्ष रूप से प्रताड़ित करने का चंद्रबाबू प्रयास कर रहे हैं। YSRCP के विधायकों की खरीदफरोख्त के बाद चंद्रबाबू अब लोगों की खरीदफरोख्त पर विचार कर रहे हैं। इसके लिए चंद्रबाबू सत्ता का दुरुपयोग कर रहे हैं। बहरहाल, चंद्रबाबू TDP के नेता कम और स्वार्थ की राजनीति पर अधिक ध्यान दे रहे हैं।