श्रीकाकुलम : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि धोखे की राजनीति करने वाले टीडीपी प्रमुख नारा चंद्रबाबू नायडू को जरूर सबक सिखाया जाएगा। उन्होंने कहा कि चंद्रबाबू हर मामले में यू टर्न ले रहे हैं। अमित शाह सोमवार को पलासा में भाजपा प्रजा चैतन्य बस यात्रा का शुभारंभ के बाद आयोजित एक जनसभा में बोल रहे थे।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने का पता चलते ही चंद्रबाबू नायडू ने भाजपा से गठबंधन के लिए गिड़गिड़ाया था। उन्होंने कहा कि तेलुगु भाषियों के लिए दिवंगत नेता एनटीआर ने टीडीपी का गठन किया था, लेकिन आज चंद्रबाबू नायडू ने कांग्रेस से हाथ मिलाकर टीडीपी के साथ विश्वासघात किया है।

चंद्रबाबू पर एनटीआर की पीठ में छुरा घोंपकर टीडीपी को हथिया लेने का गंभीर आरोप लगाते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आंध्र प्रदेश विभाजन कानून के मुताबिक हैदराबाद के 10 वर्ष तक संयुक्त राजधानी होने के बावजूद केंद्र की भाजपा सरकार ने सिर्फ पांच साल में आंध्र को सबकुछ दे दिया है। विभाजन कानून में नहीं रहने वाले शिक्षण संस्थान तक आंध्र प्रदेश को दिये जा चुके हैं।

इसे भी पढ़ें ;

तनाव व विरोध के बीच जारी है अमित शाह का पलासा दौरा

अमित शाह ने कहा कि चंद्रबाबू राजग से अलग होने के बाद से मोदी सरकार पर आरोप लगाने के साथ-साथ भ्रष्टाचार के आरोपों से बचने के लिए भाजपा के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं। शाह ने कहा कि 2019 के चुनाव के बाद चंद्रबाबू फिर से एनडीए की तरफ आने की कोशिश करेंगे। उन्होंने दावा किया है कि आम चुनाव के बाद केंद्र में फिर से मोदी सरकार का आना तय है।