नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के बीजेपी कार्यकर्ताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रूबरू प्रधानमंत्री ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू पर निशाना साधा। पीएम मोदी ने बाबू की हाल की धमकियों पर टिप्पणी की। उनके मुताबिक जब कोई व्यक्ति अपना धैर्य खो देता है तो वो बेचैन हो जाता है। ऐसी स्थिति में वो धमकियां देने पर उतारू हो जाता है। ऐसा ही कुछ सीएम बाबू के साथ हो रहा है।

'मेरा बूथ सबसे मजबूत' कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अनंतपुर, कडपा, कर्नूल, नर्सापेट और तिरुपति के बूथ लेवल कार्यकर्ताओं से रूबरू थे।

एक महिला कार्यकर्ता ने सवाल किया कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री बाबू विशेष दर्जे के मुद्दे पर युवाओं को गुमराह कर रहे हैं और लगातार झूठ बोल रहे हैं। ऐसे में उनसे कैसे निपटा जाय? इस सवाल पर प्रधानमंत्री एक बार फिर बाबू के खिलाफ सख्त हुए। प्रधानमंत्री ने कहा कि जिसने दिवंगत मुख्यमंत्री एनटीआर को दो दो बार धोखा दिया। उनसे सच्चाई की कैसे उम्मीद की जा सकती है। एनटीआर की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि दिवंगत मुख्यमंत्री तेलुगू आइकॉन रहे जिन्होंने कांग्रेस पार्टी के खिलाफ कड़ा संघर्ष किया था। आज उन्ही के पोते कांग्रेस के आगे नतमस्तक हैं।

यह भी पढ़ें:

तेलंगाना की राजनीति में पूरी तरह से असफल रहे हैं चंद्रबाबू : नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू अपने बेटे नारा लोकेश के सियासी भविष्य को लेकर आश्वस्त हैं। बाबू सिर्फ अपने बेटे को आगे बढ़ाने में लगे हैं। जबकि राज्य के बाकी बेटे बेटियों की उन्हें चिंता नहीं है। उनकी नीतियों और घोटालों के चलते राज्य का भविष्य खराब हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि तेदेपा के कुशासन के चलते राज्य के लोग सत्ता परिवर्तन के लिए तैयार हैं। उनके मुताबिक चंद्रबाबू नायडू के शासन की पोल खुल गई है और वे दोबारा सत्ता में नहीं आ सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू प्रधानमंत्री बनने का दिवास्वप्न देख रहे हैं। मोदी ने एक सप्ताह से भी कम समय में दूसरी बार तेदेपा अध्यक्ष पर सीधा हमला बोला है।

पांच लोकसभा क्षेत्रों के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि नायडू ने कांग्रेस से हाथ मिलाकर दूसरी बार एनटीआर की पीठ में छुरा घोपा है। उन्होंने कहा कि नायडू मुख्यमंत्री के तौर पर असफल होने के बावजूद प्रधानमंत्री बनने का दिवास्वप्न देख रहे हैं।

मोदी ने कहा, "वो एनटीआर थे जिन्होंने कांग्रेस विरोधी राष्ट्रीय मोर्चे के साथ कांग्रेस मुक्त भारत आंदोलन की अगुआई की थी। लेकिन आज उनके दामाद अपनी सत्ता बचाने के लिए कांग्रेस के सामने नतमस्तक हो गए हैं। एनटीआर तेलुगू गौरव के सच्चे आइकन थे। तेलुगू गौरव को नुकसान पहुंचाने और तेलुगू लोगों की भलाई के साथ विश्वासघात करने के लिए एनटीआर कांग्रेस को कभी नहीं भूले। आंध्र प्रदेश में आज जो सत्ता में हैं वे सत्ता से इतनी बुरी तरह चिपके हैं कि उन्हें तेलुगू जनता को धोखा दे दिया और एनटीआर की पीठ में दूसरी बार छुरा घोंपा है।"

मोदी ने विपक्ष के गठबंधन को 'परिवार-शासित राजनीतिक दलों' की भीड़ बताते हुए कहा कि जनता का दिल जीतने में असमर्थ लोग हिंसा का सहारा ले रहे हैं।

उन्होंने कहा, "जनता के दिलों को जीतने में नाकाम रहने वाले या उसके द्वारा अस्वीकृत होने वाले हिंसा का सहारा ले रहे हैं। कल (शनिवार) केरल के एक सांसद वी. मुरलीधरन के आवास के बाहर एक बम मिला। उन्हें मारने की साजिश रची गई थी। केरल और आंध्र प्रदेश में भी प्रतिदिन हमारे कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है।"

भाजपा के एक नेता ने कहा कि नायडू ने शुक्रवार को भाजपा कार्यकर्ताओं के एक समूह पर उस समय अपना गुस्सा उतारा था, जब उन्होंने मोदी पर उनके बयान के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए उनका रास्ता रोक दिया था।

नायडू ने कथित तौर पर कहा था, "तुम लोग पीटे जाओगे। अनावश्यक परेशानी को आमंत्रित मत करो। तुम खत्म हो जाओगे। क्या तुम आंध्र प्रदेश के साथ हुए अन्याय का समर्थन करते हो? जनता तुम्हें समझाएगी।"

मोदी ने कहा, "यह धमकी घबराहट और असुरक्षा के कारण है। इसका मतलब है कि व्यापक प्रशासनिक साधन होने के बावजूद सत्तारूढ़ लोग डरे हुए हैं। धमकी का अर्थ है कि भाजपा कार्यकर्ताओं को सफलता मिल रही है।"

मोदी ने भाजपा कार्यकर्ताओं की ताकत को कमतर आंकने की गलती न करने की चेतावनी देते हुए कहा कि पार्टी कार्यकर्ता एक बार जब ठान लेते हैं, तो उन्हें सफलता हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता।

मोदी ने कहा, "मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू अपने बेटे को आगे बढ़ाने के लिए इतने आतुर हैं कि उन्हें अहसाह ही नहीं है कि कैसे उनकी नीतियों और भ्रष्टाचार से राज्य का सूर्यास्त हो जाएगा। अपने बेटे के उदय के लिए वह (नायडू) राज्य के अस्त का माहौल बना रहे हैं। वह सिर्फ अपने बेटे को आगे बढ़ा रहे हैं, वह राज्य के बेटों-बेटियों को भूल रहे हैं।"