हैदराबाद: आंध्र प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं YSR कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष YS जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि दलबदलू राजनीति के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से विधानसभा सत्र का बहिष्कार किया है। विधानसभा सत्र में सरकार की अराजकता को लेकर चर्चा करने का प्रयास करने का हवाला देते हुए उन्होंने बताया कि पिछले एक वर्ष से भी ज्यादा समय से प्रजा संकल्प यात्रा के माध्यम से लोगों के बीच बिताया है।

प्रजा संकल्प यात्रा में 3600 किमी का पड़ाव पूरा कर लिया है। इस दौरान लोगों की विभिन्न समस्याओं को जानने का मौका मिला। जगन ने कहा कि विधानसभा सत्र की कार्यवाही में लोकतंत्र को लेकर सवालिया निशान बना रहा।

YSR कांग्रेस पार्टी के 23 विधायकों की खरीद-फरोख्त की गई। दलबदलू विधायकों के खिलाफ विधानसभा में किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई। इसके बावजूद दलबदलू चार विधायकों को मंत्री बनाया गया। इस दलबदलू नीति से नाराज होकर उनकी पार्टी ने विधानसभा सत्र का बहिष्कार किया था। YSR कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष ने कहा कि वर्ष 2014 के चुनाव में चंद्रबाबू और नरेंद्र मोदी ने मिलकर प्रचार किया था।

इसे भी पढ़ेें:

चंद्रबाबू नायडू ने की है लोकतंत्र की अवहेलना: विधायक रोजा

चंद्रबाबू ने कहा था कि जगन को वोट देने का मतलब कांग्रेस पार्टी को वोट देने जैसा, जबकि पिछले पांच वर्षों में हम कभी कांग्रेस पार्टी से नहीं मिले। उन्होंने बताया कि चंद्रबाबू पिछले करीब चार वर्षों तक भाजपा के साथ रहे और इस दौरान केंद्र से मिले बजट का दुरुपयोग करते रहे। परंतु चुनाव करीब आने और राज्य में दिनों-दिन घटती अपने जनादार से डरकर चंद्रबाबू ने भाजपा का दामन छोड़कर अब कांग्रेस पार्टी से हाथ मिलाया है।