श्रीकाकुलम: आंध्र प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं YSR कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष YS जगन मोहन रेड्डी ने कहा है कि मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायडू राज्य में प्राकृतिक आपदा की चपेट में आने से अनेक समस्याओं से जूझ रहे लोगों को भगवान भरोसे छोड़कर स्वार्थ राजनीति के लिए पड़ोसी राज्य में चुनाव प्रचार करने में लगे हैं।

उन्होंने कहा है कि तितली तूफान ने उत्तर आंध्र में हाहाकार मचा दिया। क्षेत्र के लोगों का जनजीवन प्रभावित हुआ, लेकिन सरकार ने अभी तक उन्हें किसी प्रकार का सहयोग उपलब्ध नहीं किया।

पदयात्रा दौरान जनसमुदाय के बीच YS जगन मोहन रेड्डी
पदयात्रा दौरान जनसमुदाय के बीच YS जगन मोहन रेड्डी

चिलकलापालेम में आमसभा को संबोधित करते हुए YS जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि बाबू उत्तर आंध्र की समस्याओं को नजरअंदाज करते हुए तेलंगाना की राजनीति पर ध्यान दे रहे हैं। तितली तूफान से प्रभावित क्षेत्रों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जिले के एच्चेर्ला मंडल में लगभग 1200 एकड़ भूमि में फसलें नष्ट हो गई, जबकि अधिकारियों ने सर्वेक्षण कर केवल 400 एकड़ में फसलें नष्ट होने की रपट पेश की।

इसे भी पढ़ें:

314वें दिन की प्रजा संकल्प यात्रा जारी, YS जगन का कदम-कदम पर भव्य स्वागत

YS जगन मोहन रेड्डी ने कहा है कि श्रीकाकुलम जिले में दिवंगत मुख्यमंत्री YSR ने शिक्षा विकास को प्राथमिकता दी थी। उन्होंने जिले में अंबेडकर विश्वविद्यालय बनाया। चंद्रबाबू के सत्ता में आने के बाद इस विश्वविद्यालय में समस्याओं का अंबार लग गया। छात्रों को न्यूनतम सुविधाएं उपलब्ध नहीं की जा रही है। छात्रों को स्कॉलरशीप नहीं मिल रही हैं। विश्वविद्यालय में 96 प्राध्यापकों की आवश्यकता होने पर केवल 12 अध्यापक नियमित हैं। नियमित अध्यापकों के पदों पर भर्ती करने की बजाय ठेकेदार प्रणाली पर प्राध्यापकों की नियुक्ती की जा रही है।