लखनऊ : उत्तर प्रदेश में महानगरों की तरह गांवों में भी स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के उद्देश्य से चरक एप की शुरुआत की गई है। इस एप की मदद से स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार होगा और दूर-दराज के इलाकों के चिकित्सक भी उपचार के आधुनिक तरीकों और अन्य चिकित्सा जानकारियां साझा कर सकेंगे।

प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने चरक एप (सीएलआईआरनेट से संचालित) की शुरआत करते हुए कहा कि यह एप चिकित्सकों के बीच एक तंत्र बनाता है, जो दूरी या बुनियादी ढांचे की परवाह किए बिना जानकारी देने में समर्थ है।

इससे ग्रामीणों को उचित इलाज मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि यह एप यह सुनिश्चित करने में मदद करेगा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली में हर चिकित्सक जानकार हो और प्रदेश सरकार के विकसित मानक और उपचार के तरीकों का पालन करे।

मंत्री ने कहा कि यह एप संस्थाओं और विशेषज्ञों को चिकित्सकों के साथ जोडकर उनको और प्रभावी बनाएगा। प्रदेश में आम आदमी के लिए समान विचारधारा वाले संगठनों के साथ तालमेल बनाएगा। जिससे सही उपचार में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में मौजूद प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत किया जा रहा है ताकि समाज के अंतिम पायदान पर मौजूद जरुरतमंद व्यक्ति को इसका लाभ मिल सके।