Fri Oct 20, 2017 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
  शरद यादव को राज्यसभा सदस्यता पर नोटिस, 30 अक्टूबर को हाजिरी का निर्देश  
  अफगानिस्तान में सेना के कैम्प पर आतंकी हमला, 43 सैनिकों की मौत  
  नवाज़ शरीफ़, उनकी बेटी और दामाद पर भ्रष्टाचार के मामले में आरोप तय  
  आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर आज से जलवा बिखेरेंगे वायुसेना के 20 विमान  
दीवाली पर SC के बैन का असर नहीं दिखा, दिल्ली-NCR में जमकर हुई आतिशबाजी, धुएं से भरा शहर

सेहत

 सावधान..पुरुषों को भी होता है स्तन कैंसर, जानिए कैसे और क्यों..!  
समाचार

सावधान..पुरुषों को भी होता है स्तन कैंसर, जानिए कैसे और क्यों..!  

माना जाता है कि स्तन कैंसर सिर्फ महिलाओं को होता है, क्योंकि पुरुषों के पास महिलाओं की तरह स्तन नहीं होते, लेकिन उनके पास स्तन ऊतक जरूर होते हैं। इसलिए उन्हें भी स्तन कैंसर हो सकता है। पुरुषों में स्तन कैंसर एक दुर्लभ रोग है और यह सभी तरह के स्तन कैंसरों का एक प्रतिशत है।

 बिना फिक्र उठाएं दिवाली का मजा
जीवन शैली

बिना फिक्र उठाएं दिवाली का मजा

दिवाली का मौका हो तो मिठाईयों को न कह पाना लगभग असंभव हो जाता है, लेकिन इसके कारण कई लोगों को अपने वजन, कैलोरी और शुगर का स्तर बढ़ने की भी चिंता सताती है।

आपको डिप्रेशन है तो खाइए मशरुम, फिर इस तरह के होंगे लाभ  
समाचार

आपको डिप्रेशन है तो खाइए मशरुम, फिर इस तरह के होंगे लाभ  

एक नए शोध में दावा किया गया है कि सिलोकाइबिन मशरूम यानी जादुई मशरुम बेहद प्रभावी ढंग से अवसाद का इलाज कर सकती है। यह जादुई मशरूम इस बीमारी से परेशान मरीजों के मस्तिष्क के प्रमुख तंत्र की गतिविधि को फिर से शुरु कर सकने में सक्षम है।

 विटामिन डी सप्लीमेंट से अस्थमा पर नियंत्रण संभव 
जीवन शैली

विटामिन डी सप्लीमेंट से अस्थमा पर नियंत्रण संभव 

एक अध्ययन के अनुसार, अस्थमा की स्टैंडर्ड दवाइयां लेने के अलावा विटामिन डी की अतिरिक्त खुराक लेने से इस रोग के जोखिम को आधा किया जा सकता है। विटामिन डी का सप्लीमेंट लेने वाले लोगों में अस्थमा के एक दौरे के बाद इसका खतरा 50 फीसदी तक कम पाया गया।

 देश में हर साल 1.44 लाख बढ़ रहीं स्तन कैंसर की मरीज
जीवन शैली

देश में हर साल 1.44 लाख बढ़ रहीं स्तन कैंसर की मरीज

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अुनसार, भारत में हर साल पांच लाख लोग कैंसर से अकाल मौत का शिकार हो रहे हैं। कैंसर रोगियों की संख्या इसी रफ्तार से बढ़ती रही, तो 2015 में यह मृत्युदर सात लाख तक पहुंच जाएगी।

 जीका वायरस के खिलाफ सुरक्षित डीएनए आधारित टीका विकसित 
जीवन शैली

जीका वायरस के खिलाफ सुरक्षित डीएनए आधारित टीका विकसित 

वैज्ञानिकों के अनुसार जीका वायरस के प्रकोप से बचने के लिए शुरुआती दौर में मनुष्य पर क्लीनिकल ट्रायल में एक डीएनए आधारित जीका वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी पाया गया है।

 बढ़ती उम्र के साथ ह्रदय को इस तरह रखें स्वस्थ 
गेस्ट कॉलम

बढ़ती उम्र के साथ ह्रदय को इस तरह रखें स्वस्थ 

उम्र बढ़ने के साथ ह्रदय रोग का खतरा बढ़ता जाता है। युवावस्था से ही स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर इस बीमारी से बचा जा सकता है, जो विश्वभर में पुरुषों और महिलाओं दोनों की मौत के मामले में पहले स्थान पर है।



दिल्ली के 71 फीसदी लोग पर्याप्त नींद नहीं ले पाते
समाचार

दिल्ली के 71 फीसदी लोग पर्याप्त नींद नहीं ले पाते

दिल्ली के 71 फीसदी लोग पर्याप्त नींद नहीं ले पाते। इसी तरह 71 फीसदी का मानना है कि उन्हें आफिस के साथ ही घर में भी तनाव महसूस होता है।

केरल में सबसे ज्यादा तो बिहार  के लोगों में सबसे कम BP की शिकायत, शोध में दावा
समाचार

केरल में सबसे ज्यादा तो बिहार के लोगों में सबसे कम BP की शिकायत, शोध में दावा

एक नए शोध में दावा किया गया है कि देश में शहरी पुरुषों और महिलाओं में उच्च रक्तचाप के प्रसार की दर क्रमश: 31 प्रतिशत और 26 प्रतिशत है। राष्ट्रीय पोषण संस्थान (एनआईएन) की एक रिपोर्ट के मुताबिक शहरी पुरुषों और महिलाओं में उच्च रक्तचाप का प्रसार जहां केरल में सबसे ज्यादा है। वहीं, बिहार में यह दर सबसे कम है ।


जबड़े का विकार बढ़ा सकता है माइग्रेन
जीवन शैली

जबड़े का विकार बढ़ा सकता है माइग्रेन

वे लोग जो पुराने माइग्रेन के सिरदर्द से पीड़ित हैं, उन लोगों में जबड़े की गंभीर बीमारी होने की संभावना तीन गुना तक बढ़ जाती है। एक शोध में यह बात सामने आई।


घरेलू फेस मास्क से त्वचा में लाएं निखार
जीवन शैली

घरेलू फेस मास्क से त्वचा में लाएं निखार

घर पर बनाए गए फेस मास्क त्वचा में निखार लाने के लिए सबसे उपयुक्त होते हैं। प्राकृतिक सामग्री जैसे- केला, पपीता, जौ, एलोवेरा, शहद, आदि चीजें आपकी त्वचा में चमक व निखार लाते हैं।



पुरुषों में यौन रोग का कारण अस्वस्थ जीवनशैली
जीवन शैली

पुरुषों में यौन रोग का कारण अस्वस्थ जीवनशैली

देश की राजधानी में लगभग 20 प्रतिशत युवा, वयस्क और मध्यम आयु वर्ग के पुरुष यौनेच्छा की आवृत्ति या संतुष्टि न मिलने समेत यौन रोग संबंधी अपनी चिंताओं को लेकर डॉक्टर से परामर्श करते हैं, यह एक सर्वेक्षण में पता चला है।


बदलती जीवनशैली से भी स्तन कैंसर संभव
जीवन शैली

बदलती जीवनशैली से भी स्तन कैंसर संभव

भारत में महिलाओं में कैंसर के मामलों में 27 प्रतिशत मामले स्तन कैंसर के हैं। इस तरह की परेशानी 30 वर्ष की उम्र के शुरुआती वर्षो में होती है, जो आगे चलकर 50 से 64 वर्ष की उम्र में भी हो सकती है।


आंखों के काले घेरे से छुटकारा पाना आसान
जीवन शैली

आंखों के काले घेरे से छुटकारा पाना आसान

मेकअप और कंसीलर आंखों के काले घेरे को भले ही कुछ देर के लिए छिपा लें, लेकिन इस समस्या को जड़ से हल करने की जरूरत है। विशेषज्ञों का कहना है कि नियमित देखभाल से काले घेरों से छुटकारा पाया जा सकता है।



शो स्टॉपर बनीं स्तन कैंसर से जंग जीतने वाली महिलाएं
समाचार

शो स्टॉपर बनीं स्तन कैंसर से जंग जीतने वाली महिलाएं

न्यूयॉर्क फैशन वीक (एनवाईएफडब्ल्यू) में डिजाइनर प्रेमल बादियानी के लिए स्तन कैंसर से जंग जीतने वाली मैरी एन डैशिले और ओजलेम ने शो स्टॉपर बन कर रैंप वॉक किया। भारतीय डिजाइनर ने वास्तविक जीवन में स्तन कैंसर का मुकाबला करने वाली महिलाओं के सम्मान में अपना परिधान संग्रह पेश किया।


बचपन में ही डालें स्वस्थ जीवनशैली की आदत
जीवन शैली

बचपन में ही डालें स्वस्थ जीवनशैली की आदत

स्कूलों में स्वास्थ्य का बहुत महत्व है, क्योंकि स्कूल केवल औपचारिक शिक्षा प्रदान करने वाले केंद्र ही नहीं हैं, बल्कि एक बच्चे के समग्र विकास को भी प्रभावित करते हैं।


‘देश में इस साल अब तक 1,094 लोगों की स्वाइन फ्लू से मौत’
समाचार

‘देश में इस साल अब तक 1,094 लोगों की स्वाइन फ्लू से मौत’

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार देश में इस साल अब तक 1,000 से अधिक लोग स्वाइन फ्लू से मारे गए हैं जो पिछले साल के आंकडे से चार गुना ज्यादा है। साथ ही अब तक इस बीमारी के कुल 22,186 मामले सामने आए हैं।



गुर्दे की पथरी से बचने के लिए तरल पदार्थो का सेवन लाभकारी
समाचार

गुर्दे की पथरी से बचने के लिए तरल पदार्थो का सेवन लाभकारी

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) का कहना है कि 13 प्रतिशत पुरुषों और सात प्रतिशत महिलाओं में गुर्दे की पथरी की समस्या पाई जाती है।


बहरेपन से बचाने को बच्चों में टीकाकरण जरूरी
जीवन शैली

बहरेपन से बचाने को बच्चों में टीकाकरण जरूरी

दुनिया की लगभग 5 प्रतिशत आबादी को ठीक से सुनाई नहीं देता। इनमें 3.2 करोड़ बच्चे हैं। भारतीय आबादी का लगभग 6.3 प्रतिशत में यह समस्या मौजूद है और इस संख्या में लगभग 50 लाख बच्चे शामिल हैं।

‘स्तन कैंसर के इलाज के लिए मिली नई कारगर दवा, रोगियों के लिए जागी नई उम्मीद’
जीवन शैली

‘स्तन कैंसर के इलाज के लिए मिली नई कारगर दवा, रोगियों के लिए जागी नई उम्मीद’

स्तन कैंसर विश्व भर में महिलाओं को होने वाले प्रमुख कैंसरों में से एक है और प्रति वर्ष स्तन कैंसर से बडी संख्या में महिलाओं की मौत हो जाती है लेकिन अब वैज्ञानिकों ने एक ऐसे अणु की खोज की है जो इसके इलाज में सहायक साबित हो सकता है।

ज्यादा सिगरेट 

से हो सकता है इरेक्टाइल डिस्फंक्शन
जीवन शैली

ज्यादा सिगरेट से हो सकता है इरेक्टाइल डिस्फंक्शन

दिन में 20 सिगरेट से ज्यादा धूम्रपान करने वालों में शुक्राणुओं की कमी की समस्या देखी गई है। साथ ही ऐसे लोगों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन (ईडी) का जोखिम भी 60 प्रतिशत तक अधिक रहता है।


युवाओं में बढ़ रही पैर सूजने की बीमारी
सेहत

युवाओं में बढ़ रही पैर सूजने की बीमारी

एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि ‘वैरिकोज वेन्स’ यानी पैरों की नसें सूजने की बीमारी युवाओं में चिंता का कारण बन रही है। करीब 7 प्रतिशत युवा इस स्थिति से परेशान हैं। इस रोग से महिलाओं को चार गुना अधिक खतरा रहता है।



बारिश के मौसम में ऐसा हो आपका आहार
गेस्ट कॉलम

बारिश के मौसम में ऐसा हो आपका आहार

रिश के मौसम में सही से आहार नहीं लेने के कारण पेट संबंधी बीमारी होने की संभावना ज्यादा होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोई भी अपने दैनिक आहार में परिवर्तन कर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को कम कर सकता है।



दांतों को यूं रखें स्वस्थ
सेहत

दांतों को यूं रखें स्वस्थ

मानसून के दौरान दांतों से संबंधित कई समस्याएं हो सकती हैं, जो दांतों के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं, इसलिए टूथब्रश बदलना जरूरी है और नियमित रूप से दांतों को फ्लॉस (दांत साफ करने वाला धागा) करें।


असंक्रामक रोगों से होने वाली मौतें 70 फीसदी बढ़ीं
जीवन शैली

असंक्रामक रोगों से होने वाली मौतें 70 फीसदी बढ़ीं

देश में कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह और फेफड़ों की बीमारियों जैसे असंक्रामक रोगों (एनसीडी) से होने वाली मौतों के मामले 70 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं।



‘बच्चों को नियमित स्तनपान कराने से जल्दी गर्भधारण की संभावना कम’
जीवन शैली

‘बच्चों को नियमित स्तनपान कराने से जल्दी गर्भधारण की संभावना कम’

पंजाब सरकार ने जच्चा और बच्चा दोनों के स्वास्थ्य के लिए महिलाओं से बच्चों को दो साल तक स्तनपान कराने की अपील करते हुए कहा कि दोनों के स्वस्थ रहने तथा जल्दी दोबारा गर्भधारण से बचने के लिए नियमित स्तनपान कराना आवश्यक है।

स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए जिलों में किए गए कार्यवाई दल गठित
सेहत

स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए जिलों में किए गए कार्यवाई दल गठित

प्रदेश में स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए सभी जनपदों में जिला स्तरीय त्वरित कार्वाई दल का गठन किया गया है। टीम में एक जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ, एक फिजिशियन, एक एपीडेमियोलॉजिस्ट तथा एक पैथोलाजिस्ट, लैब टेक्नीशियन को शामिल किया गया है।



कमजोर स्वाद कलिकाओं से वजन बढ़ने का खतरा
समाचार

कमजोर स्वाद कलिकाओं से वजन बढ़ने का खतरा

भोजन का स्वाद नहीं पाने वाले लोगों में मीठे को ज्यादा तरजीह देना उनके मोटापे का कारण बन सकता है। कमजोर स्वाद कलिकाओं वाले लोगों में ज्यादातर मीठा पंसद किए जाने से उन्हें ज्यादा वजन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।



देश को टीबी मुक्त बनाने में रोटरी लाएगी जागरूकता
समाचार

देश को टीबी मुक्त बनाने में रोटरी लाएगी जागरूकता

भारत में 2014 की तुलना में 2015 में टीबी से मौतों की संख्या दोगुनी हो गई है। इसे दखते हुए देश के विभिन्न हिस्सों से रोटरी सदस्यों ने ट्यूबरकुलोसिस (टीबी) को लेकर जागरूकता लाने और देश में टीबी के मामलों की पहचान में सहयोग के लिए समुदाय को संगठित करने के लिए प्रतिबद्धता जताई।

मानसून में न करें फिटनेस से समझौता, हल्के वर्कआउट से खुद को रखें फिट
सेहत

मानसून में न करें फिटनेस से समझौता, हल्के वर्कआउट से खुद को रखें फिट

फिटनेस कोई आदत नहीं, बल्कि जीवनशैली है। इसके लिए प्रतिबद्धता और समर्पण की जरूरत होती है। इसलिए मानसून में भी फिटनेस के प्रति अपने जुनून को कम न होने दें। विशेषज्ञों का कहना है कि घर के अंदर ही हल्का वर्कआउट कर आप खुद को फिट रख सकते हैं।


95 फीसदी भारतीयों में मसूड़ों की बीमारी
जीवन शैली

95 फीसदी भारतीयों में मसूड़ों की बीमारी

भारत में दांतों की समस्याओं को गंभीरता से नहीं लिया जाता है। हाल ही में किए गए एक अध्ययन से संकेत मिलता है कि लगभग 95 प्रतिशत भारतीयों में मसूड़ों की बीमारी है, 50 प्रतिशत लोग टूथब्रश का उपयोग नहीं करते और 15 वर्ष से कम उम्र के 70 प्रतिशत बच्चों के दांत खराब हो चुके हैं।

मानसून में रखें इन बातों का ख्याल
जीवन शैली

मानसून में रखें इन बातों का ख्याल

मानसून के दौरान कई तरह की त्वचा संबंधी या फिर सर्दी-जुकाम जैसी बीमारियों का भी अंदेशा बना रहता है। ऐसे में कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

जानिए कैसे... महिलाएं कैल्शियम की  समस्या से छुटकारा पाये
गेस्ट कॉलम

जानिए कैसे... महिलाएं कैल्शियम की समस्या से छुटकारा पाये

भारत के ग्रामीण व शहरी दोनों ही क्षेत्रों की महिलाओं में कैल्शियम की कमी एक आम समस्या बनती जा रही है। यह खानपान की बदलती आदतों के कारण हो रहा है। विशेष रूप से शहरी महिलाओं में पिछले कुछ दशकों में भोजन संबंधी आदतों में बड़ा बदलाव आया है।


काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा
जीवन शैली

काम के घंटे लंबे होने से दिल के दौरे का खतरा

काम के घंटे लंबे होने से दिल की धड़कन के अनियमित होने का जोखिम हो सकता है। इस अवस्था को आट्रियल फाइब्रलेशन कहते हैं। यह स्ट्रोक व हार्ट फेल्योर को बढ़ाने का काम करता है।

आंखों की रोशनी यूं रखें बरकरार
जीवन शैली

आंखों की रोशनी यूं रखें बरकरार

यह तकनीकी युग है और हम फोन चेक करने, कंप्यूटर स्क्रीन पर देखते हुए काम करने, गेम खेलने और टेलीविजन देखने जैसे काम ज्यादा करते हैं, जिससे हमारी आंखों की रोशनी प्रभावित होती है। स्वस्थ आंखों के लिए पौष्टिक भोजन का सेवन, व्यायाम और आंखों का ख्याल रखना जरूरी है।

गर्भावस्था में एंटीबायोटिक दवा बच्चों में ला सकती है आंत के रोग
जीवन शैली

गर्भावस्था में एंटीबायोटिक दवा बच्चों में ला सकती है आंत के रोग

गर्भावस्था के अंतिम चरण में एंटीबायोटिक दवा का सेवन गर्भस्थ शिशु की आंत में सूजन संबंधी रोगों का जोखिम बढ़ा सकता है।


हफ्ते में तीन घंटे फुटबाल खेलना हड्डियों के लिए फायदेमंद
जीवन शैली

हफ्ते में तीन घंटे फुटबाल खेलना हड्डियों के लिए फायदेमंद

यदि आपका बच्चा फुटबाल खेलता है तो यह उसके हड्डियों के लिए फायदेमंद साबित होगा। एक शोध में सामने आया है कि लड़कों के हफ्ते में सिर्फ तीन घंटे फुटबाल खेलने से हड्डियों के मजबूत व स्वस्थ रहने की संभावना बढ़ जाती है।

‘अधिक वसा वाले भोजन से बड़ी आंत के कैंसर का खतरा’
सेहत

‘अधिक वसा वाले भोजन से बड़ी आंत के कैंसर का खतरा’

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) का कहना है कि दोषपूर्ण जीवनशैली और हानिकारक आहार से बड़ी आंत का कैंसर होने का खतरा होता है। अधिक वसा और कम रेशों वाले भोजन से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।