सेंट पीटर्सबर्ग : डिफेंडर सैमुअल उमटिटी के गोल की बदौलत फ्रांस ने रोमांचक सेमीफाइनल में मंगलवार को यहां बेल्जियम को 1-0 से हराकर तीसरी बार फीफा विश्व कप फाइनल में जगह बनाई। मैच का एकमात्र गोल उमटिटी ने 51वें मिनट में हैडर के जरिये किया। फ्रांस की टीम तीसरी बार विश्व कप के फाइनल में जगह बनाने में सफल रही।

टीम ने 1998 में अपनी ही मेजबानी में हुए विश्व कप फाइनल में ब्राजील को हराकर खिताब जीता था, लेकिन 2006 के फाइनल में इटली से हार गई थी। फ्रांस की टीम अब 15 जुलाई को होने वाले फाइनल में इंग्लैंड और क्रोएशिया के बीच आज होने वाले दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से भिड़ेगी।

बेल्जियम के खिलाफ विश्व कप के तीन मैचों में यह फ्रांस की तीसरी जीत है। इससे पहले फ्रांस ने 1938 में पहले दौर का मुकाबला 3-1 से जीतने के बाद 1986 में तीसरे दौर के प्ले ऑफ मैच में 4-2 से जीत दर्ज की। इसके साथ ही बेल्जियम का 24 मैचों का अजेय अभियान भी थम गया।

यह भी पढ़ें :

FIFA World Cup : खत्म हुआ ब्राजील का सफर, बेल्जियम ने 2-1 से हराया

FIFA World Cup : 28 साल बाद सेमीफाइनल में पहुंचा इंग्लैंड, स्वीडन को 2-0 से हराया

इस दौरान उसने 78 गोल किए और मैच से पहले सिर्फ एक मैच में टीम गोल नहीं कर पाई। बेल्जियम की टीम हालांकि विश्व कप में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ विदा हुई और अपने प्रदर्शन से लोगों का दिल जीतने में सफल रही। बेल्जियम के लिए बायें छोर से एडन हेजार्ड ने कई अच्छे मूव बनाए लेकिन टीम को दायें छोर पर रोमेलु लुकाकु की नाकामी का खामियाजा भुगतना पड़ा।

फ्रांस के स्टार स्ट्राइकर ओलिवर गिरोड भी कई मौकों पर अच्छे मूव को फिनिश करने में नाकाम रहे, लेकिन उमटिटी ने टीम को मुश्किल में फंसने से बचा लिया। बेल्जियम की टीम ने थामस म्युनियर के निलंबन के कारण उनकी जगह मूसा डेम्बले को उतारा जबकि फ्रांस ने निलंबन के बाद वापसी कर रहे ब्लेस मातुइदी को कोरेनटिन टोलिसो की जगह शुरुआती एकादश में शामिल किया। दोनों टीमों ने मैच की सतर्क शुरुआती की।

बेल्जियम की टीम हालांकि शुरुआत में कुछ बेहतर दिखी। टीम ने पांचवें मिनट में अच्छा मूव बनाया और गेंद बायें छोर पर एडन हेजार्ड के पास पहुंची लेकिन उनके क्रास को फ्रांस के डिफेंडरों ने बाहर कर दिया जिससे बेल्जियम को कार्नर किक मिली। बेल्जियम की टीम हालांकि नासेर चाडली के दिशाहीन शाट के कारण कार्नर किक का फायदा नहीं उठा सकी।

फ्रांस ने भी 10वें मिनट में बायें छोर से अच्छा मूव बनाया लेकिन पेनल्टी बाक्स में सतर्क खड़े बेल्जियम के डिफेंडरों ने आसानी से उसके प्रयास को नाकाम कर दिया। फ्रांस ने दो मिनट बाद बेल्जियम के मूव को विफल करते हुए पलटवार किया लेकिन युवा काइलियान एमबापे लंबे पास तक पहुंचते उससे पहले ही गोलकीपर थिबाउट कोर्टोइस ने आगे बढ़कर गेंद को अपने कब्जे में ले लिया।

फेल हुई भालू पामेर की भविष्यवाणी

गौरतलब है कि हर विश्वकप की तरह इस बार पामेर नामके एक भालू ने फ्रांस और बेल्जियम के बीच खेले गए पहले सेमीफाइनल मैच में बेल्जियम की जीत की भविष्यवाणी की थी, लेकिन उसकी भविष्यवाणी बिलकुल गलत साबित करते हुए फ्रांस ने बेल्जियम को हराकर फाइनल में अपनी जगह बनाई।

आपको बता दें हर बार फुटबाल विश्वकप के दौरान लोग विजेता टीम का नाम जानने के लिए पॉलबाबा, बिल्ली आदि को ज्योतिषी के तौर पर मैदान में उतारा जाता है । इसी बार पामेर नामक भालू को उतारा गया था।