ब्रिस्टल : भारत और इंग्लैंड रविवार को होने वाले निर्णायक टी-20 मैच में एक दूसरे के सामने होंगे। दूसरे मैच को जीतते हुए इंग्लैंड ने तीन मैचों की सीरीज को रोमांचक मोड़ पर पहुंचा दिया है। अब सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच में दोनों टीमों को जीत से कम कुछ नहीं चाहिए।

भारत ने मैनचेस्टर में खेले गए पहले मैच में जीत हासिल कर 1-0 की बढ़त ले ली थी, लेकिन कार्डिफ में शुक्रवार देर रात खेले गए मैच से इंग्लैंड ने सीरीज में बराबरी कर ली। पहले मैच में एकतरफा हार झेलने वाली इंग्लैंड ने दूसरे मैच में खेल के हर क्षेत्र में सुधार किया। पहले मैच में बैकफुट पर रहने वाली इंग्लैंड ने दूसरे मैच में अपनी गलतियों को सुधारते हुए बराबरी हासिल की।

पहले मैच में कुलदीप यादव ने इंग्लैंड के बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था लेकिन दूसरे मैच में पूरी टीम कुलदीप और उनके जोड़ीदार युजवेंद्र चहल के खिलाफ पूरी तैयारी से उतरी थी। तीसरे और आखिरी मैच में इंग्लैंड के सामने अपने इसी प्रदर्शन को जारी रखने की चुनौती है तो वहीं भारत के लिए अपने विजयी रास्ते पर वापस लौटना आसान नहीं होगा।

दूसरे मैच में भारतीय ऊपरी क्रम पूरी तरह से ढह गया था। पहले मैच के शतकवीर लोकेश राहुल का बल्ला भी शांत रहा था। वहीं रोहित शर्मा, शिखर धवन, सुरेश रैना भी सस्ते में पवेलियन लौट लिए थे।

कप्तान विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी ने टीम को संभाला था और सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया था। तीसरे मैच में भारतीय ऊपरी क्रम को अपनी फॉर्म में लौटना होगा। वहीं कोहली और धोनी तथा हार्दिक पांड्या को अपने फॉर्म को बरकरार रखना होगा।

गेंदबाजी में टीम ने दोनों मैचों में अच्छा किया है। दूसरे मैच में कम स्कोर होने के बाद भी भारतीय गेंदबाजों ने मैच में रोमांच ला दिया था और अंत तक मैच को खींचा था। हालांकि एलेक्स हेल्स की नाबाद 58 रनों की पारी मेहमान टीम के गेंदबाजों पर भारी पड़ी थी और इंग्लैंड ने एक गेंद शेष रहते हुए मैच जीत लिया था।

तेज गेंदबाज उमेश यादव और भुवनेश्वर कुमार ने शुरुआत में टीम को विकेट दिलाए थे। आखिरी मैच में भारत के लिए यह बहुत जरूरी होगा कि वह इंग्लैंड के ऊपरी क्रम को जल्दी पवेलियन में बैठा दे और ऐसे में भुवनेश्वर, उमेश के अलावा पांड्या को अहम भूमिका निभानी होगी।

पहले मैच में पांच विकेट लेने वाल कुलदीप को दूसरे मैच में इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने आसानी से खेला था। वहीं उनके साथी चहल दोनों मैचों में ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं। दोनों के लिए तीसरा मैच अहम होगा।

इंग्लैंड ने दूसरे मैच में बताया है कि वह बिना तैयारी के नहीं उतरती। बल्लेबाजी में उसके पास खेल के छोटे प्रारुप के बड़े नाम हैं। हालांकि दूसरे मैच में ऊपरी क्रम कुछ कर नहीं पाया था। जोस बटलर, जेसन रॉय जल्दी पवेलियन लौट गए थे। इयोन मोर्गन भी कुछ खास नहीं कर पाए थे। अंत में हेल्स को जॉनी बेयर्सटो का अच्छा साथ मिला था। इन सभी बल्लेबाजों को जीत हासिल करन के लिए तीसरे मैच में अपनी फॉर्म में वापसी करनी होगी।

गेंदबाजों ने दूसरे मैच में अपने प्रदर्शन से काफी प्रभावित किया था। आदिल राशिद, डेविड विले, जैक बाल और क्रिस जोर्डन ने भारतीय बल्लेबाजों पर अंकुश लगाए रखा था। मोर्गन ने दूसरे मैच में मोइन अली को बाहर कर जैक बाल को अंतिम एकादश में जगह दी थी। इस मैच वो वही टीम संयोजन के साथ उतरते हैं के नहीं यह देखना होगा।

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), दिनेश कार्तिक, मनीष पांडे, हार्दिक पांड्या, क्रूणाल पांड्या, सुरेश रैना, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, दीपक चहर, सिद्धार्थ कौल, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव।

इंग्लैंड : इयोन मोर्गन (कप्तान), मोइन अली, जॉनी बेयर्सटो, जैक बाल, जोस बटलर, सैम कुरैन, एलेक्स हेल्स, क्रिस जोर्डन, लियाम प्लंकट, आदिल राशिद, जोए रूट, जेसन रॉय और डेविड विले।

-आईएएनएस