मास्को : इंग्लैंड की टीम पेनल्टी शूटआउट में कोलंबिया को हराकर विश्व कप क्वार्टर फाइनल के लिए क्वालीफाई करने वाली अंतिम टीम बनी जबकि प्रबल दावेदार ब्राजील और फ्रांस ने अंतिम आठ में अपने प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ भिड़ने की तैयारी शुरू कर दी है।

इंग्लैंड की टीम क्वार्टर फाइनल में स्वीडन के खिलाफ जीत की प्रबल दावेदार होगी जिसने कल प्री क्वार्टर फाइनल में स्विट्जरलैंड को 1-0 से हराया। इन दोनों टीमों को मेजबान रूस और क्रोएशिया के साथ ड्रा के निचले हाफ में रखा गया है जिसमें सिर्फ इंग्लैंड पूर्व चैंपियन है। ऊपरी हाफ में कई बड़ी टीमों को जगह मिली है जिसमें 1998 के चैंपियन फ्रांस को दो बार के विजेता उरूग्वे से भिड़ना है जबकि ब्राजील को बेल्जियम का सामना करना है।

यह भी पढ़ें : इंग्लैंड ने कोलंबिया को पेनल्टी शूटआउट में हराया, क्वार्टर फाइनल में किया प्रवेश

एरिक डायर ने निर्णायक पेनल्टी को गोल में बदला जिससे इंग्लैंड विश्व कप में चार प्रयासों में पहली बार पेनल्टी शूटआउट में जीत दर्ज करने में सफल रहा। इंग्लैंड के कोच गैरेथ साउथगेट ने कहा कि उनकी नजरें शनिवार को स्वीडन के खिलाफ होने वाले क्वार्टर फाइनल पर टिकी हैं और इस मैच में जीत उन्हें अंतिम चार में जगह दिलाएगी जहां क्रोएशिया या रूस से भिड़ंत हो सकती है।

दूसरी तरफ स्वीडन ने आरबी लेपजिग के मिडफील्डर एमिल फोर्सबर्ग के गोल की बदौलत स्विट्जरलैंड को हराया और अमेरिका में 1994 विश्व कप के बाद टीम पहली बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने में सफल रही। टूर्नामेंट का विजेता हालांकि शीर्ष हाफ से आने की उम्मीद है जहां की टीमों के पास पूर्व के आठ विश्व खिताब हैं। प्रबल दावेदार ब्राजील शुक्रवार को कजान में बेल्जियम से भिड़ेगा जबकि काइलियान एमबापे की अगुआई में फ्रांस की युवा टीम को निजनी नोवगोरोद में उरूग्वे का सामना करना है।

यह भी पढ़ें : FIFA WC: पिता के अपहरण की खबर जानने के बाद भी खेलते रहे नाइजीरियाई कप्तान

ब्राजील की नजरें रिकार्ड में इजाफा करने वाले छठे विश्व खिताब पर टिकी हैं। बेल्जियम की टीम प्री क्वार्टर फाइनल में 0-2 से पिछड़ने के बाद हार की ओर बढ़ रही थी लेकिन अंतिम 21 मिनट के खेल में तीन गोल दागकर जीत दर्ज करने में सफल रही। नासेर चाडली ने टीम की ओर से इंजरी टाइम में विजयी गोल दागा।

एडेन हेजार्ड, रोमेलु लुकाकु, ड्राइस मर्टेन्स और केविन डि ब्रून ब्राजील के डिफेंस को कड़ी चुनौती दे सकते हैं। दक्षिण अमेरिकी टीम ने हालांकि चार मैचों में सिर्फ एक बार गोल गंवाया है। फ्रांस ने एमबापे के दो गोल की बदौलत अर्जेन्टीना को 4-3 से शिकस्त दी और उरूग्वे से भिड़ने का हक पाया। उरूग्वे की सफलता जोस गिमेनेज और डिएगो गोडिन की मजबूत डिफेंस जोड़ी पर निर्भर है जबकि उसके पास लुइ सुआरेज और एडिनसन कवानी की स्ट्राइक जोड़ी भी है।