सेंट पीटर्सबर्ग (रूस) : फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण के प्री-क्वार्टर फाइनल में आज स्वीडन और स्विट्जरलैंड की टीमें सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम में आमने-सामने होंगी।

स्विट्जरलैंड की कोशिश 64 साल बाद क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने की होगी। वहीं स्वीडन भी 1994 के बाद पहली बार अंतिम-8 में पहुंचाना चाहेगा। स्वीडन ने अमेरिका में खेले गए विश्व कप में तीसरा स्थान हासिल किया था और स्विट्जरलैंड अपनी मेजबानी में खेले गए विश्व कप में अंतिम-8 में पहुंचने में सफल रही थी।

इस मैच से पहले उसके डिफेंस ने बेहतरीन काम किया था लेकिन मेक्सिको के खिलाफ कोच की आक्रामक नीति रंग लाई थी और टीम अपने अटैक को भी मजबूत करने में सफल रही थी। अगर दोनों जगह स्वीडन अपने फॉर्म को बरकरार रखती है तो उसके लिए स्विट्जरलैंड को हरा पाना आसान हो सकता है। फिर भी वो अपनी विपक्षी टीम को हल्के में नहीं ले सकती।

यह भी पढ़ें :

FIFA World Cup : क्वार्टर फाइनल में पहुंची ब्राजील, मेक्सिको को हराया

उसके लिए चिंता का विषय यह है कि मिडफील्ड की जिम्मेदारी संभालने वाले सेबेस्टियम लार्सन इस मैच से बाहर हो सकते हैं।

स्विट्जरलैंड के लिए अगले दौर में जाने की रहा बेहद मुश्किल होने वाली है। उसे इतिहास में बदलाव करना है तो ग्रुप दौर के खेल से बेहतर खेल दिखाना होगा क्योंकि स्वीडन हर मामले में उससे बेहतर टीम है।

स्विट्जरलैंड ने ग्रुप दौर में ब्राजील और कोस्टा रिका के साथ दो ड्रॉ मैच खेले थे जबकि सर्बिया के खिलाफ ही वो जीत हासिल कर पाई थी। ऐसे में टीम की आक्रमण पंक्ति पर काफी दारोमदार है क्योंकि बिना गोल किए अंतिम-8 में जाना असंभव है।

यह भी पढ़ें :

फीफा विश्व कप : जर्मनी के बाद अर्जेंटीना भी बाहर, एमबापे बने जीत के नायक

फीफा विश्व कप : उलटफेर का सिलसिला जारी, रूस ने स्पेन को दिखाया बाहर का रास्ता

इतिहास को दोहराने और उससे आगे निकलने पर दोनों टीमों का ध्यान है, लेकिन रास्ता आसान नहीं होगा।

स्वीडन ने ग्रुप दौर में अच्छा प्रदर्शन किया था। उसे सिर्फ जर्मनी के हाथों की हार का सामना करना पड़ा था। उसने अपने आखिरी मैच में मैक्सिको को 3-0 से मात दी थी। उसके लिए यह चिंता तब और बढ़ गई जब डिफेंडर फाबियान स्कार और कप्तान स्टीफन लेस्टिस्टेनर के बिना उतरना होगा। यह उसके अभियान को बड़ झटका पहुंचा सकता है।

स्विट्जरलैंड के लिए यह मैच कठिनाईयों से भरा होने वाला है और स्वीडन की पूरी कोशिश होगी की वह मुश्किल से घिरी इस टीम को पस्त कर अंतिम-8 का टिकट कटाए।

टीमें :

स्वीडन :

गोलकीपर : रोबिन ओल्सन, कोर्ल जोहान जॉनसन, क्रिस्टोफर नोर्डेल्ट

डिफेंडर : मिकाएल लुस्टिग, विक्टर लिंटेलोफ, आंद्रेस ग्रांक्वैस्ट, मार्टिन ओल्सोन, लुडविग ऑगिस्टनसन, फिलिप हेलांडर, एमिल क्राफ्थ, पोंटस जानसन

मिडफील्डर : सेबेस्टियन लार्सन, एल्बिन एकडल, एमिल फोर्सबर्ग, गुस्ताव स्वेनसन, ऑस्कर हिल्जेमार्क, विक्टर क्लासेन, मार्कस रोहदेन, जिमी दुरमाज

फारवर्ड : मार्कस बर्ग, जॉन ग्वीडेटी, ओला तोइवोनेन और किएसे थेलिन।

स्विट्जरलैंड :

गोलकीपर : यान सोमेर, मार्विन हिट्ज, रोमान बुर्की

डिफेंडर : निको एल्वेदी, लियो लेकरोइक्स, स्टीफन लिस्टस्टेनर, मिशेल लांग, फाबियान स्कार, रिकाडरे रोड्रिगेज, मैनुएल अकान्जी

मिडफील्डर : ग्रानिट शाका, रेमो फ्रेउलर, स्टीवन जुबेर, गेल्सन फनार्देस, डेनिस जकारिया, एडिमिल्सन फनार्देस, बेलरिम जेमाली, वालोन बेहरामी, शेरडान शकीरी

फारवर्ड : मारियो गवारानोविक, ब्रील एम्बोलो, अदमीर मेहमेदी और हेरिस सेफेरोविक।