मैनचेस्टर : भारतीय क्रिकेट टीम का इंग्लैंड दौरा मंगलवार से शुरू हो रही तीन टी-20 मैचों की सीरीज से शुरू हो रहा है। दोनों टीमें ओल्डट्रेफर्ड स्टेडियम में खेले जाने वाले टी-20 मैच से सीरीज का आगाज करेंगी।

भारत के लिए यह दौरा काफी मुश्किल माना जा रहा है ऐसे में उसकी कोशिश पहले मैच में जीत हासिल कर दौरे की सकारात्मक शुरुआत करने की होगी।

दोनों टीमें शानदार फॉर्म में है। भारत ने हाल ही में आयरलैंड को दो टी-20 मैचों की सीरीज में 2-0 से मात दी थी तो वहीं इंग्लैंड ने आस्ट्रेलिया को वनडे सीरीज में 5-0 से हराया था।

दोनों टीमें जीत के साथ आत्मविश्वास के साथ इस सीरीज में उतर रही हैं, लेकिन इस बात से भी भलीभांती वाकिफ हैं कि जिन टीमों से वो जीत के आ रही हैं वो मौजूदा समय में आउट ऑफ फॉर्म हैं। इस लिहाज से दोनों टीमों के सामने अभी तक के सबसे कड़े प्रतिद्वंद्वी को हराने की चुनौती है।

इसे भी देखें..

इन दो भारतीय खिलाड़ियों के लिए पहला T-20 मैच ही बना था आखिरी मैच

विश्व क्रिकेट में मौजूदा समय में यह दो टीमें असल चैम्पियन मानी जाती हैं। इन दोनों के बीच की जंग रोचक और कड़ी होने की उम्मीद है।

भारत की बात की जाए को उसके लिए इस दौरे पर उसके कलाई के गेंदबाज युजवेंद्रा चहल और कुलदीप यादव का रोल काफी अहम साबित हो सकता है। दोनों गेंदबाजों ने विदेशी जमीं पर मध्य के ओवरों में विपक्षी टीम को परेशन किया है। यह दोनों बल्लेबाजों को खुलकर नहीं खेलने देते और न ही विकेट पर पैर जमाने देते।

इसे भी देखें..

वीडियो : भारत ने आज के दिन इस तरह से जीता था 1983 का विश्वकप

T-20 : भारत ने 143 रनों से दी आयरलैंड को शिकस्त, सीरीज पर 2-0 से कब्जा

दक्षिण अफ्रीका और आयरलैंड में इसकी बानगी देखने को मिली है जबकि घर में तो इन दोनों ने अपने आप का कई बार साबित किया है। इन दोनों के सामने हालांकि अभी तक का सबसे मजबूत बल्लेबाजी क्रम आने वाला है। इंग्लैंड के पास खेल को छोटे प्रारूप के खतरनाक बल्लेबाज मौजूद हैं। एलेक्स हेल्स, जोस बटलर, जॉनी बेयर्सटो, इयोन मोर्गन किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को ध्वस्त करने का माद्दा रखते हैं।

यह बल्लेबाज ऐसे हैं जो विकेट पर टिकने और साथ ही तेजी से रन बनाना दोनों बातें अच्छे से जानते हैं। इनसे निपटना न सिर्फ चहल और कुलदीप के लिए चुनौती होगा बल्कि भुवनेश्वर कुमार, हार्दिक पांड्या और उमेश यादव के लिए भी बड़ी बात होगी।

सीरीज की शुरुआत से पहले भारत को बड़ा झटका लगा है। उसके डेथ ओवरों के विशेषज्ञ जसप्रीत बुमराह और ऑफ स्पिनर वॉशिंगटन सुंदर चोट के कारण टीम से बाहर हो गए हैं।

वहीं अगर भारत की बल्लेबाजी की बात की जाए तो कोहली के लिए सलामी जोड़ी का चयन काफी मुश्किल होगा। रोहित शर्मा और शिखर धवन नियमित जोड़ी हैं, लेकिन लोकेश राहुल के रूप में भारत के पास एक और सलामी बल्लेबाज मौजूद है जिन्होंने आयरलैंड के खिलाफ खेले गए दूसरे टी-20 मैच में तूफानी अर्धशतक लगाया था। कोहली ने उस मैच में धवन को बाहर किया था और रोहित को चौथे नंबर पर धकेल राहुल के साथ पारी का आगाज किया था। इस मैच में कोहली क्या करते हैं यह देखना होगा।

वहीं मध्यक्रम में सुरेश रैना, मनीष पांडे, महेंद्र सिंह धौनी और हार्दिक पांड्या हैं। यह सभी बल्ले से खतरनाक साबित हो सकते हैं।

भारत के लिए इंग्लैंड में बल्लेबाजी आसान नहीं होगी क्योंकि घरेलू परिस्थतियों में लियाम प्लकंट, क्रिस जोर्डन, डेविड विले, आदिल राशिद बेहद कारगर साबित हो सकते हैं।

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धौनी (विकेटकीपर), दिनेश कार्तिक, मनीष पांडे, हार्दिक पांड्या, क्रूणाल पांड्या, सुरेश रैना, युजवेंद्रा चहल, कुलदीप यादव, दीपक चहर, सिद्धार्थ कौल, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव।

इंग्लैंड : इयोन मोर्गन (कप्तान), मोइन अली, जॉनी बयर्सटो, जैक बाल, जोस बटलर, सैम कुरैन, टॉम कुरैन, एलेक्स हेल्स, क्रिस जोर्डन, लियमा प्लंकट, आदिल राशिद, जोए रूट, जेसन रॉय और डेविड विले।