सेंट पीटर्सबर्ग : अर्जेंटीना स्टार लियोनेल मेस्सी ने अपनी टीम की नाईजीरिया पर 2-1 से जीत के बाद स्वीकार किया कि अपने करियर में वह कभी ऐसी तनावपूर्ण स्थितियों से नहीं गुजरे थे। अर्जेंटीना के लिये यह मैच करो या मरो जैसा था।

यह भी पढ़ें: सपना टूटते देख अपना दर्द नहीं छिपा सके मेस्सी

मेस्सी ने टूर्नामेंट का पहला गोल दागा लेकिन आखिर में मार्कोस रोजो के गोल से ही उसकी जीत और अंतिम-16 में स्थान पक्का हो पाया। मेस्सी से पूछा गया कि क्या यह उनके करियर का सबसे तनावपूर्ण मैच था, उन्होंने कहा, ‘‘मैं इससे पहले कभी इस तरह के हालात से नहीं गुजरा था। यह परिस्थितियों की वजह से था।''

यह भी पढ़ें: तस्वीरों में देखें, अर्जेंटीना और क्रोएशिया के बीच खेले गए रोमांचक मैच के कुछ खास पल

अर्जेंटीना के कोच जार्ज साम्पओली ने कहा कि जब नाईजीरिया ने पेनल्टी पर गोल दागकर स्कोर बराबर किया तो उनकी टीम को बाहर होने की चिंता सताने लगी थी। उन्होंने कहा, ‘‘पेनल्टी के बाद हम थोड़ा बैचेन हो गये थे। हमें चिंता होने लगी थी कि कहीं हमारा सफर यहीं पर न थम जाए।''

साम्पओली ने कहा, ‘‘हम आखिर में वास्तव में बहुत खुश थे। खिलाड़ियों ने अपनी जीजान लगा दी। उन्होंने बेहद महत्वपूर्ण जीत दर्ज की।"