मैड्रिड : भारतीय महिला हॉकी टीम की श्रृंखला की शुरुआत निराशाजनक रही और उसे स्पेन के खिलाफ पांच मैचों की श्रृंखला के पहले मैच में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा। दोनों टीमों के बीच यह बराबरी का मुकाबला था, लेकिन स्पेन ने गोल करने के मौकों को अच्छी तरह से भुनाया।

स्पेन की तरफ से लोला रियरा (48वें और 52वें मिनट) और बर्टा बोनास्त्रे (छठे मिनट) ने गोल किये। स्पेन ने पहले क्वार्टर में दबदबा बनाया तथा 26 वर्षीय बोनास्त्रे ने छठे मिनट में ही गोल करके अपनी टीम को बढ़त दिला दी। स्पेन ने इसके बाद दूसरा गोल करने के लिये भी अच्छे प्रयास किये लेकिन भारतीय रक्षापंक्ति ने उन्हें नाकाम कर दिया।

भारत के पास भी गोल करने के मौके थे, लेकिन वह उन्हें नहीं भुना पाया। कप्तान रानी रामपाल के पास 14वें मिनट में बहुत अच्छा मौका था लेकिन उनका शॉट बाहर चला गया। भारत ने दूसरे क्वार्टर की शुरुआत अच्छी की। अनुपा बार्ला का 19वें मिनट में गोल पर जमाया गया शाट गोलकीपर मारिया रूइज ने बचा दिया। अगले मिनट में ही रानी को मौका मिला लेकिन वह फिर से चूक गयी।

भारत को 24वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन शॉट बाहर चला गया। इसके दो मिनट बाद स्पेन ने जवाबी हमला किया लेकिन गोलकीपर सविता ने यह संकट टाल दिया। तीसरे क्वार्टर के शुरू में भी उन्होंने पेनल्टी कार्नर पर गोल होने से बचाया। दूसरी तरफ रानी के शाट का मारिया रूइज ने अच्छा बचाव किया।

अंतिम क्वार्टर में भारतीय टीम बराबरी का गोल करने के लिये बेताब दिखी। उसने आक्रामक तेवर अपनाये लेकिन तभी सुनीता लाकड़ा के सिर पर गेंद लगी और रेफरी ने स्पेन को पेनाल्टी स्ट्रोक दे दिया। रियरा ने 48वें मिनट में इसे गोल में बदला। इसके चार मिनट बाद रियरा ने पेनल्टी कार्नर पर ड्रैग फ्लिक से गोल किया। इसके बाद स्पेनिश टीम ने सारी ताकत गोल बचाने में लगायी और अच्छे अंतर से जीत दर्ज की।