कोलकाता : नितिश राणा (59), आंद्रे रसैल (41) के बाद कोलकाता नाइट राइडर्स की सुनील नरेन, कुलदीप यादव और पीयूष चावला की स्पिन तिगडी ने दिल्ली डेयरडेविल्स को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में दूसरी जीत से महरूम कर दिया।

कोलकाता ने पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली के सामने 201 रनों की चुनौती रखी थी, लेकिन कुलदीप, सुनील और चावला की फिरकी में दिल्ली फंस गई और 14.2 ओवरों में 129 रनों पर ढेर हो कर 71 रनों से मैच हार गई।

इन्हें भी पढ़ें

पीठ दर्द से परेशान धौनी ने कहा, रन बनाने के लिए मेरा हाथ ही काफी है

देखें.. आईपीएल में पंजाब की चेन्नई पर जीत की तस्वीरें

दिल्ली के सिर्फ दो बल्लेबाज दहाई के आंकड़े में पहुंच सके। ग्लैन मैक्सवेल ने सर्वाधिक 47 रनों की पारी खेली जिसमें उन्होंने 22 गेंदों का सामना किया और तीन चौकों के अलावा चार छक्के लगाए। उनके अलावा ऋषभ पंत ही दहाई के आंकड़े में पहुंच सके। पंत ने 26 गेंदों में सात चौके और एक छक्के की मदद से 43 रनों की पारी खेली।

विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी दिल्ली को चावला ने पहले ओवर में ही बड़ा झटका दे दिया। ओवर की चौथी गेंद पर चावला ने खतरनाक जेसन रॉय (1) को पवेलियन भेज दिया। रसैल ने दूसरे ओवर में श्रेयस अय्यर को अपना शिकार बनाया और फिर तीसरे ओवर की आखिरी गेंद पर शिवम मावी ने गौतम गंभीर को बोल्ड कर दिल्ली का स्कोर 24 रनों पर तीन विकेट कर दिया।

दूसरे छोर पर पंत थे और अब क्रीज पर मैक्सवेल भी आ चुके थे। दोनों ने रन बरसाने चालू किए। पंत अर्धशतक की ओर बढ़ रहे थे, तभी कुलदीप ने उन्हें 86 के कुल स्कोर पर चावला के हाथों कैच कराया। राहुल तेवतिया को टॉम कुरैन ने अपना शिकार बनाया। कुलदीप ने मैक्सवेल को भी अर्धशतक पूरा नहीं करने दिया।

क्रिस मौरिस रौद्र रूप अपनाते उससे पहले नरेन ने उन्हें बोल्ड कर आईपीएल में अपने 100 विकेट पूरे किए। वह आईपीएल में 100 विकेट पूरे करने वाले पहले विदेशी खिलाड़ी बन गए हैं।

नरेन का अगला शिकार विजय शंकर (2), मोहम्मद शमी (7) बने। कुलदीप ने ट्रैंट बाउल्ट को अपनी ही गेंद पर कैच कर दिल्ली को समेट दिया।

कोलकाता के लिए कुलदीप और नरेन ने तीन-तीन विकेट लिए। चावला, रसैल, मावी और कुरैन ने एक-एक विकेट लिया।

इससे पहले, राणा और रसैल की तूफानी पारियों ने कोलकाता को 20 ओवरों में नौ विकेट के नुकसान पर 200 रनों तक पहुंचाया।

राणा ने 39 गेंदों की पारी में पांच चौके और चार छक्के लगाए। रसैल ने तो महज 12 गेंदों का सामना किया और छह छक्के जड़े। इन दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 61 रनों की साझेदारी की।

उसके इस स्कोर में और इजाफा हो सकता था, लेकिन लेग स्पिनर तेवतिया ने आखिरी ओवर में सिर्फ एक रन दिया और तीन विकेट लिए। उन्होंने ओवर की आखिरी दो गेंदों पर चावला और कुरैन के विकेट लिए। इस लिहाज से वह हैट्रिक पर हैं। इसके लिए उन्हें अगले मैच में अपने पहले ओवर की पहली गेंद पर विकेट लेना होगा।

कोलकाता ने एक बार फिर नरेन को पारी की शुरुआत करने भेजा, लेकिन इस बार वह चार गेंदों में सिर्फ एक रन बनाकर बाउल्ट की गेंद पर मैक्सवेल के हाथों लपके गए। यहां से क्रिस लिन (31) और रोबिन उथप्पा (35) ने रन बटोरने शुरू किए।

टीम का स्कोर 62 रन था तभी शहबाज नदीम ने उथप्पा को अपनी ही गेंद पर लपक लिया। उथप्पा ने 19 गेंदों की पारी में दो चौके और तीन छक्के लगाए।

कुछ देर बाद लिन को रॉय ने सीमा रेखा के पास शानदार तरीके से लपक कर पवेलियन भेजा। लिन का विकेट 89 के कुल स्कोर पर शमी के हिस्से आया। दिनेश कार्तिक ने 10 गेंदों में दो चौके एक छक्का लगाकर 19 रन बनाए। उन्हें बाउल्ट ने मौरिस के हाथों कैच करा कर अपना दूसरा शिकार बनाया।

यहां से राणा और रसैल का तूफान आया और दिल्ली के गेंदबाज रनों पर रन खाते चले गए। रसैल आईपीएल इतिहास में सबसे तेज अर्धशतक की ओर बढ़ रहे थे तभी बोल्ट ने 18वें ओवर में एक बेहतरीन यॉर्कर से उन्हें पवेलियन भेजा।

राणा अगले ओवर में मौरिस की गेंद पर गंभीर के हाथों लपके गए। आखिरी ओवर में तेवतिया ने कोलकाता को एक रन से ज्यादा नहीं बनाने दिए।

तेवतिया के अलावा बाउल्ट, मौरिस को दो-दो सफलताएं मिलीं। शहबाज नदीम के हिस्से एक विकेट आया।