हैदराबाद : भारतीय क्रिकेट के महान बल्लेबाजों में एक राहुल द्रविड़ को खेल की दुनिया में 'द वॉल' के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि उनके धैर्य और विकेट पर टिकने की क्षमता का हर कोई मुरीद था। अपने 16 साल के क्रिकेट करियर में वह भारत के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी माने जाते थे। इसी खासियत की वजह से उन्हें 'मिस्टर डिपेंडेबल' और 'द वॉल' भी कहा जाता था।

आज राहुल द्रविड़ का जन्मदिन है। उनके जन्मदिन पर हम उनके ऐसे रिकॉर्ड्स आपको बताने जा रहे हैं, जिसे आजतक कोई तोड़ नहीं पाया है।

स्लिप में कैच पकड़ते राहुल द्रविड़ (फाइल फोटो)
स्लिप में कैच पकड़ते राहुल द्रविड़ (फाइल फोटो)

1. टेस्ट मैच में सबसे ज्यादा कैच

कहा जाता था कि राहुल द्रविड़ अगर स्लिप में खड़े हों तो मजाल है कि बॉल उनके हाथों से निकल जाए। 1996-2012 तक क्रिकेट खेलने वाले द्रविड़ ने 164 मैचों की 301 पारियों में सबसे ज्यादा 210 कैच पकड़ रखे हैं। उनके बाद महेला जयवर्धने (205), साउथ अफ्रीका के जैक कैलिस (200) का नंबर आता है।

टेस्ट मैच में बैटिंग के दौरान शॉट मारते द्रविड़ (फाइल फोटो)
टेस्ट मैच में बैटिंग के दौरान शॉट मारते द्रविड़ (फाइल फोटो)

2. टेस्ट में सबसे सबसे ज्यादा गेंदें खेलना

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व भारतीय कप्तान ने अपने पूरे टेस्ट करियर में किसी भी बल्लेबाज से ज्यादा 31,258 गेंदें खेली हैं। राहुल द्रविड़ के बाद 200 टेस्ट खेलने वाले सचिन तेंडुलकर का नंबर आता है, जिसने 29,437 गेंदें खेली हैं। तीसरे नंबर पर 166 टेस्ट खेलने वाले जैक कैलिस हैं, जिन्होंने 28,903 गेंदें खेली हैं।

पवेलियन लौटते राहुल द्रविड़ (फाइल फोटो)
पवेलियन लौटते राहुल द्रविड़ (फाइल फोटो)

3. चौथी पारी में सबसे ज्यादा रन

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने एक और कीर्तिमान बना रखा है, जिसे अब तक सचिन तेंडुलकर, ब्रायन लारा और सुनील गावस्कर जैसे दिग्गज भी नहीं तोड़ पाए हैं। यह रिकॉर्ड चौथी पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने का है।

राहुल द्रविड़ को टैस्ट मैच में चौथी पारी खेलने के कुल 52 मौके मिले जिसमें उन्होंने 44.48 की औसत से 1468 रन बनाए। जबकि उनके बाद ब्रायन लारा का नंबर आता है, जिन्होंने 46 पारियों 35.12 की औसत से 1440 रन बनाए हैं। तीसरे स्थान पर शिवनरायन चंद्रपाल हैं, जिन्होंने कुल 1406 रन बनाए हैं।

यह भी पढ़ें :

तेंदुलकर की बेटी को फोन पर अगवा करने की धमकी, आरोपी हुआ गिरफ्तार

आईसीसी रैंकिंग में भारत, दक्षिण अफ्रीका के बाद तीसरे स्थान पर पहुंचा ऑस्ट्रेलिया