नई दिल्ली : पिछली दो टेस्ट श्रृंखलाओं में आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को दिन में तारे दिखाने वाले भारतीय स्पिनर सीमित ओवरों की क्रिकेट में अपने इस प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ खास प्रभाव नहीं छोड़ पाये हैं और ऐसे में पूरी संभावना है कि विराट कोहली 17 सितंबर से शुरु होने वाले पांच मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला में मजबूत तेज गेंदबाजी आक्रमण के साथ उतरने को तवज्जो दें।


आस्ट्रेलिया ने पिछले चार वर्षों में भारतीय सरजमीं पर दो टेस्ट श्रृंखलाएं खेली लेकिन आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और बायें हाथ के स्पिनर रविंद्र जडेजा के सामने उसके बल्लेबाज नाकाम रहे और भारत ने ये दोनों श्रृंखलाएं आसानी से जीती। अश्विन ने इस बीच आठ मैचों में 50 और जडेजा ने इतने ही मैचों में 49 विकेट लिये। इन दोनों से पहले हरभजन सिंह (14 मैचों में 86 विकेट) और अनिल कुंबले (दस मैचों में 62 विकेट) भी अपनी धरती पर आस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ खासे सफल रहे हैं।
  लेकिन एकदिवसीय मैचों में एकदम से कहानी बदलती रही। यही वजह है कि 2013 में अश्विन और जडेजा की मौजूदगी के बावजूद भारत सात मैचों की श्रृंखला बमुश्किल 3-2 से जीत पाया था। टेस्ट मैचों में कहर बरपाने वाले अश्विन ने उस श्रृंखला के छह मैचों में 37.22 की औसत से नौ और जडेजा ने इतने ही मैचों में 41.87 की औसत से आठ विकेट लिये थे। लेग स्पिनर अमित मिश्रा ने भी तब एक मैच खेला था जिसमें उन्होंने दस ओवर में 78 रन लुटाये थे और उन्हें सफलता नहीं मिली थी।

ये भी पढ़े :

क्रिकेटर सुरेश रैना बाल-बाल बचे, चलती रेंज रोवर का फटा टायर

VIDEO : एंडरसन ने लिया 500वां विकेट, फैन को मिला उसका प्यार


  इससे पहले हरभजन (22 मैचों में 54.94 की औसत से 18 विकेट) और कुंबले ( नौ मैचों में 13 विकेट) भी एकदिवसीय मैचों में आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को टेस्ट मैचों की तरह परेशान नहीं कर पाये थे। इसके उलट तेज गेंदबाज ज्यादा प्रभावी रहे। इन दोनों टीमों के बीच भारतीय सरजमीं पर खेली गयी पिछली श्रृंखला में ही आर विनयकुमार, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार और इशांत शर्मा ने मिलकर 19 विकेट लिये थे। शायद यही वजह है कि भारतीय टीम प्रबंधन ने आगामी श्रृंखला के पहले तीन वनडे के लिये अपना तेज गेंदबाजी आक्रमण मजबूत रखा है।

भारत ने इन मैचों के लिये शमी और भुवनेश्वर के अलावा उमेश यादव, जसप्रीत बुमराह और हार्दिक पंड्या के रूप में कुल पांच तेज गेंदबाज टीम में रखे हैं जबकि स्पिन विभाग में अश्विन और जडेजा जैसे अनुभवी गेंदबाजों के बजाय युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल और कुलदीप यादव जैसे युवा स्पिनरों पर भरोसा जताया है।
आंकड़े भी इसके गवाह हैं। इससे पहले जहीर खान (19 विकेट), अजित अगरकर (17 विकेट), जवागल श्रीनाथ और कपिल देव ( दोनों 12 विकेट) तथा एस श्रीसंत (11 विकेट) ने वनडे में स्पिनरों की तुलना में आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों पर अधिक प्रभाव छोड़ा।


आस्ट्रेलिया की भी कमोबेश यही स्थिति है। भारत में दोनों टीमों के बीच खेली गयी पिछली वनडे श्रृंखला में उसने जेवियर डोहर्टी के रुप में एकमात्र विशेषज्ञ स्पिनर टीम में रखा था जो छह मैचों में केवल दो विकेट ले पाये थे। आरोन फिंच, ग्लेन मैक्सवेल और एडम वोजेश ने भी कुछ अवसरों पर स्पिन गेंदबाजी की, लेकिन इनमें से अधिकतर की भूमिका तेज गेंदबाजों को विश्राम देने के लिये बीच में कुछ ओवर करने की रही।

आस्ट्रेलिया के लिये तब जेम्स फाकनर, मिशेल जानसन और क्लाइंट मैकाय ने तेज गेंदबाजी का जिम्मा संभाला था। इन दोनों टीमों के बीच भारतीय धरती पर खेले गये वनडे मैचों में सर्वाधिक विकेट लेने का रिकार्ड भी जानसन (31 विकेट) के नाम पर दर्ज है। आस्ट्रेलिया आगामी श्रृंखला में भी अपने तेज गेंदबाजों फाकनर, नाथन कूल्टर नाइल, पैट कमिन्स और जोश हेजलवुड पर ही निर्भर रहेगा।

उसकी टीम में लेग स्पिनर एडम जंपा और बायें हाथ के स्पिनर एस्टन एगर के रुप में दो विशेषज्ञ स्पिनर हैं लेकिन इनमें से एक को ही अंतिम एकादश में जगह मिलने की संभावना है। जरुरत पड़ने पर मैक्सवेल दूसरे स्पिनर की भूमिका निभा सकते हैं। रिकार्ड के लिये बता दें कि भारत ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ अपनी धरती पर अब तक कुल 51 वनडे मैच खेले हैं जिनमें से उसे 21 में जीत और 25 में हार मिली जबकि पांच मैचों का परिणाम नहीं निकला।

जहां तक आस्ट्रेलिया का सवाल है तो उसने भारत में ओवरआल 81 वनडे खेले हैं जिनमें से 48 में उसे जीत मिली है और 28 में हार। अन्य पांच मैचों का परिणाम नहीं निकला। इन दोनों टीमों के बीच अब तक कुल 123 वनडे मैच खेले गये हैं। इनमें से भारत ने 41 में जीत हासिल की और 72 में उसे हार का सामना करना पड़ा जबकि दस मैचों का परिणाम नहीं निकला।