पटना: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पटना में दावा किया है कि बीजेपी जदयू का गठबंधन जारी रहेगा। इसके साथ ही शाह ने आगामी लोकसभा चुनाव में सभी चालीस सीटों पर एनडीए की जीत का भरोसा दिलाया।

अमित शाह की जिस तरह पटना में अगवानी हुई और नीतीश कुमार ने जैसा उनका स्वागत किया। इससे लगता है कि दोनों पार्टियों के बीच कोई खींचतान नहीं है। जब पत्रकारों ने जदयू नेताओं से इस बारे में सीट शेयरिंग से जुड़े सवाल किए तो दावा किया गया कि ये शुरुआती दौर की मुलाकात है। जिसमें वास्तविक मुद्दों की बजाय औपचारिकताएं ज्यादा शामिल है। जदयू और बीजेपी खेमे की पूरी कोशिश है कि बिहार एनडीए में किसी तरह की खटास को लेकर मीडिया में जानकारी लीक न हो। लिहाजा इस मुलाकात पर मीडिया कयास भर लगा पा रहा है।

यह भी पढ़ें:

नाश्ते की टेबल पर मिले अमित शाह और नीतीश कुमार, सीटों के बंटवारे पर कर सकते है बात

वहीं पटना में अमित शाह ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को कई टास्क दिया। सबसे अहम की सरकार की उपलब्धियों को जनता तक हर हाल में पहुंचाएँ। शाह ने दावा किया कि मोदी सरकार के कार्यकाल में दो करोड़ लोगों को घर मुहैया कराये गए। घर घर रसोई गैस पहुंचाने का काम किया गया। शाह ने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को महान बनाया।

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष के मुताबिक नरेन्द्र मोदी का फिर से प्रधानमंत्री बनना तय है। पार्टी की कोशिश है कि बाकी बचे राज्यों में भी बीजेपी का परचम लहराये।

इस दौरान अमित शाह ने कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी पर भी निशाना साधा। उनके मुताबिक जनता राहुल गांधी से चार पीढ़ियों का हिसाब मांग रही है।

अमित शाह ने भावी योजनाओं का भी जिक्र किया। उनके मुताबिक 2022 तक हर नागरिक का अपना पक्का मकान होगा। साथ ही देश के प्रत्येक नागरिक का सरकार बीमा करवाएगी।

वहीं बीजेपी के वरिष्ठ नेता सीपी ठाकुर ने मुलाकात के संदर्भ में मीडिया से विचार साझा किया। उनके मुताबिक बिहार में चुनाव के दौरान नीतीश कुमार ही बड़े भाई की भूमिका में होंगे। जबकि राष्ट्रीय स्तर पर नरेंद्र मोदी का कोई विकल्प ही नहीं है।