नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने झारखंड लिंचिंग आरोपियों को माला पहनाने के मामले पर अपनी गलती स्वीकार कर ली है। उन्होंने घटना पर खेद जताते हुए दुख व्यक्त किया है।

जयंत ने कहा कि मैंने कई बार कहा कि ‘यह मामला सब-जुडिस है। इस मसले पर लंबी चर्चा करना सही नहीं होगा। सभी को न्याय मिलेगा और दोषियों को सजा मिलेगी। जो निर्दोष हैं, उनको न्याय जरूर मिलेगा। जहां तक माल पहनाने का मामला है, तो इससे गलत संदेश गया है, इसके मुझे खेद और दुख है।’

इसे भी पढ़ें

जयंत सिन्हा के खिलाफ ऑनलाइन याचिका शेयर कर समर्थन मांग रहे हैं राहुल गंधी

राहुल ने खोला जयंत के खिलाफ मोर्चा

इस घटना पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को जयंत सिन्हा के खिलाफ मोर्च खोलते हुए उनके हावर्ड यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र का ओहदा निरस्त करने वाली ऑनलाइन याचिका शेयर कर समर्थन मांगा था। राहुल ने याचिका का लिंक ट्वीट कर कहा था कि 'अगर एक सुशिक्षित सांसद और केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा का लिंचिंग के मामले में दोषी अपराधियों को माला पहनाने और सम्मानित करने का दृश्य आपको घृणा से भर देता है, तो इस लिंक पर क्लिक कर इस याचिका का समर्थन करें।'

इसे भी पढ़ें

मॉब लिंचिंग की बढ़ी घटनाओं पर जागी मोदी सरकार, राज्यों के लिए जारी किया यह आदेश

पहले अपने कदम को जयंत ने बताया था सही

बता दें कि इससे पहले जयंत ने अपने कदम को सही ठहराते हुए कहा था कि 'वे लिंचिंग का समर्थन नहीं करते हैं। उन्होंने कहा था कि वे लोग (लिंचिंग के आरोपी) उनके घर आए थे, इसलिए उन्हें इन लोगों का सम्मान करना पड़ा।'