हैदराबाद : तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के एक नेता ने आज कहा कि पार्टी ने अब तक यह फैसला नहीं किया है कि वह राज्यसभा के उपसभापति के पद के चुनाव में किसका समर्थन करेगी। उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने कल चुनाव की प्रक्रिया शुरू कर दी और मुद्दे पर संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार के साथ चर्चा की।

चुनाव जीतने के लिए भाजपा और कांग्रेस दोनों में से किसी के भी पास जरूरी संख्या बल नहीं है। पी.जे. कुरियन के सेवानिवृत्त होने के साथ दो जुलाई को रिक्त हो जाएगा। पद पर कब्जा करने के लिए विपक्षी दलों में बातचीत चल रही है, जबकि भाजपा ने कहा है कि वह अपना उम्मीदवार खड़ा करेगी, लेकिन सर्वसम्मति के पक्ष में है।

इसे भी पढ़ें :

PM से मिले सीएम KCR, 10 मांगों का पत्र सौंपकर, इन मुद्दों पर की चर्चा

कुछ विपक्षी दलों का रुख है कि पद किसी गैर भाजपा, गैर कांग्रेस पार्टी के नेता के पास जाना चाहिए और उनमें से कुछ प्रस्ताव के लिए समर्थन मांगने की खातिर कांग्रेस के संपर्क में हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या तेलंगाना की सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा के साथ जाएगी या विपक्ष के उम्मीदवार का समर्थन करेगी, लोकसभा में टीआरएस के नेता ए.पी जितेंद्र रेड्डी ने कहा , ‘‘हमने अब तक फैसला नहीं किया है।'' राज्यसभा में टीआरएस के छह सदस्य हैं।

संसद के 245 सदस्यीय उच्च सदन के उपसभापति पद का चुनाव जीतने के लिए किसी उम्मीदवार को 122 वोट चाहिए। राज्यसभा में भाजपा के 67 जबकि कांग्रेस के 51 सदस्य हैं।