चित्तूर: वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष वाई.एस.जगनमोहन रेड्डी ने मुख्यमंत्री नारा चन्द्रबाबू नायडू की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र चन्द्रगिरी को ही नजरंदाज किया। उन्होंने जिस विद्यालय से शिक्षा हासिल की थी उसकी हालत अब किसी से छिपी नहीं रह गयी है और यह जर्जर अवस्था में जा पहुंची है।

उनके निर्वाचन क्षेत्र के 70 प्रतिशत गांव में पेयजल सुविधा तक नहीं है। प्रजा संकल्प यात्रा के अंतर्गत जिले के चन्द्रगिरी निर्वाचन क्षेत्र के रामचन्द्रपुरम में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस निर्वाचन क्षेत्र में हर वर्ष हाथी फसलों को नुक्सान पहुंचाते हैं।सरकार की ओर से अभी तक किसानों को कोई सहायता उपलब्ध नहीं कराया गया है।

इसे भी पढ़ें:

61वां दिन : तस्वीरों में देखिए YS जगनमोहन रेड्डी की प्रजा संकल्प यात्रा

61वें दिन प्रजा संकल्प यात्रा में जगन के कदम से कदम मिलाकर साथ चल रहे हैं लोग

वाई.एस.जगनमोहन रेड्डी ने पूरा किया प्रजा संकल्प यात्रा का 60 वां दिन

चित्तूर जिला आम के लिए विख्यात है। किसानों के पास से दलाल आम कम दाम में खरीदकर बाजार में ऊंचे दाम पर बेचते हैं। इससे किसानों को काफी नुक्सान हो रहा है। इसी जिले में गन्ने की भी काफी ज्यादा फसल होती है जबकि सहकारी क्षेत्र के चीनी मिलों को बंद कर दिया गया है। निजी क्षेत्र के चीनी मिल इस क्षेत्र में फायदे में चल रहे हैं।

इसके लिए राज्य सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने आगे कहा कि टीडीपी के शासनकाल में पानी प्रति लीटर 20 रुपये और दूध 22 रुपये है। नायडू के सत्ता में आने के बाद ही चित्तूर डेयरी को बंद कर दिया गया। वाई.एस. जगन ने कहा कि बिजली दर में बढोत्तरी कर दी गयी है। राशन की दुकानों में भी सामान सीमित कर दिये गये हैं।

बेरोजगारों को भत्ता देने का वादा करने वाले नायडू अपने इस वादे को भी भूल गये। वाई.एस. जगन ने कहा कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में तुलना की जाए तो वहां के मुकाबले यहां पेट्रोल की कीमत 7.00 रुपये ज्यादा है। भू-कब्जा का सिलसिला जारी है। उन्होंने आगे कहा कि प्रजा संकल्प यात्रा के दौरान लोगों को जो भी आश्वासन दिया गया है वे उसे पूरा करेंगे।