नई दिल्ली: दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने गुरुवार को मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) अचल कुमार जोति से मुलाकात की और आम आदमी पार्टी (आप) के 20 विधायकों को कथित रूप से संसदीय सचिव के लाभ के पद पर काबिज रहने के कारण जल्द से जल्द अयोग्य ठहराने की मांग की। माकन ने इस संबंध में जोति को एक ज्ञापन भी दिया।

बैठक के बाद दिल्ली कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि माकन ने इस मामले में देरी को लेकर सीईसी को अवगत कराया क्योंकि यह मई 2015 से लंबित है। उन्होंने कहा, "सीईसी ने यह मामला देखने के प्रति आश्वस्त किया और माकन व जोति के बीच लगभग 20 मिनट तक बैठक चली।" कांग्रेस 21 आप विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने को लेकर चुनाव आयोग गई थी और उसके बाद से इस मामले पर फैसला नहीं हो पाया है।

बाद में, जरनैल सिंह के खिलाफ यह मामला रोक दिया गया था। उन्होंने रजौरी गार्डन विधानसभा सीट से इस्तीफा देकर फरवरी 2017 में हुए पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़ा था। पिछले वर्ष अक्टूबर में, चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी के विधायकों को इस संबंध में नोटिस जारी कर उनसे स्पष्टीकरण मांगा था। चुनाव आयोग ने जून 2017 में विधायकों के लाभ के पद का मामला समाप्त करने की याचिका खारिज कर दी थी और विधायकों के खिलाफ कार्रवाई जारी रखने का आदेश दिया था।

आप सरकार ने मार्च 2015 में दिल्ली विधानसभा सदस्य (अपात्रता निवारण) अधिनियम, 1997 में संशोधन किया था जिसके अंतर्गत संसदीय सचिव के पद को लाभ के पद से हटा दिया गया था। तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने हालांकि इस संशोधन को मान्यता देने से इनकार कर दिया था।