गुंटूर : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की अगुवाई में आंध्रप्रदेश के गुंटूर शहर में युवाभेरी कार्यक्रम आयोजित किया गया। बता दें कि आंध्रप्रदेश को स्पेशल कैटिगरी स्टेटस यानी विशेष दर्जा देने की मांग से पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगन मोहन रेड्डी लगातार आंदोलन चला रहे हैं। खासकर छात्र व युवा वर्ग को इस आंदोलन से जोड़ने के वो प्रयासरत हैं। गुंटूर में आयोजित युवाभेरी में छात्रों ने भारी संख्या में भाग लिया।

सतत विकास पर बल

वाईएस जगन ने अपने भाषण में सस्टेनेबल विकास यानी सतत विकास का जिक्र करते हुए विस्तार से बताया कि गरीबी और अभाव ने ग्रामीण इलाकों को कैसे घेर लिया था। उन्होंने बताया कि हर इंसान के विकास में उसके माता-पिता का योगदान महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने कहा कि पिछले 70 सालों में देश के विभिन्न शहरों का काफी विकास हुआ है और हमें कहा जा रहा है कि बेंगलूरु, चेन्नई, हैदराबाद जैसे शहरों से प्रतिस्पर्धा करें। ऐसे में विशेष दर्जा ही एक जरिया है ताकि हम बाकी शहरों के साथ-साथ विकास की राह पर चल सके।

तेलुगु देशम पार्टी बनी तेलुगु द्रोहियों की पार्टी

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नाइडू को आड़े हाथों लेते हुए वाईएस जगन ने कहा कि वो विशेष दर्जे की मांग से मुकर गए हैं। उनकी पार्टी अब तेलुगु जनता के साथ धोखाधड़ी कर रही है। उन्होंने चंद्रबाबू पर सीधे आरोप लगाया कि उन्होंने तेलुगु लोगों के स्वाभिमान को दिल्ली के शासकों के चरणों पर गिरवी रख दिया है।

ये भी पढ़ें:

‘वाईजैग कैंडल लाइट रैली में जरूर भाग लूंगा... कर सको तो गिरफ्तार करके देख लो...’

कैंडिल रैली में भाग नहीं ले पाए जगन, जबरन एयरपोर्ट से ही लौटाए गए

कैंडल मार्च में भाग लेने वालों का वाईएस जगन ने शुक्रिया अदा किया

जगन ने कहा, "चंद्रबाबू 10 लाख करोड़ रुपए के एमओयू होने का दावा कर रहे हैं। लेकिन सच यह है कि उद्योगपति तभी सामने आएंगे जब राज्य को विशेष दर्जा होगा और उसके तहत उद्योगों को रियायतें मिलेंगे।" केंद्रीय मंत्री वेंकैया नाइडू को निशाने पर लेते हुए जगन ने कहा कि वो विशेष दर्जे के वायदे से पूरी तरह पलट गए हैं।

जगन ने कहा है कि प्रदेश को विशेष दर्जा मिलने से हमारे युवाओं को दूसरे प्रदेशों में जाने की नौबत नहीं रहेगी, बल्कि नौकरियां खुद ही दूसरे राज्यों से चलकर हमारे पास आएंगी। इसके अलावा उन्होंने चंद्रबाबू के दावों को खारिज़ करते हुए कहा कि राज्य में बड़े पैमाने पर निवेश आने की बात सही नहीं है।