लखनऊ: भारतीय हॉकी टीम ने अपना शानदार खेल जारी रखते हुए जूनियर हॉकी विश्व कप में शनिवार को अपनी लगातार दूसरी जीत दर्ज की है। मेजबान टीम ने यहां के मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में खेले गए पूल-डी के मैच में इंग्लैंड को 5-3 से मात दी।

इस जीत के बाद भारत अपने पूल में छह अंकों के साथ शीर्ष पर बना हुआ है। भारत के लिए परविंदर सिंह, अरमान कुरैशी, हरमनप्रीत सिंह, सिमरनजीत सिंह और वरुण कुमार ने गोल किए। वहीं इंग्लैंड के लिए जैक ली, विल कालनन और एडवर्ड होर्लर ने गोल दागे। भारत ने अपने पहले मैच में कनाडा को 4-0 से मात दी थी, वहीं इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को 4-2 से मात दी थी।

मैच का पहला गोल इंग्लैंड ने किया, लेकिन इसके बाद पूरे मैच में वह भारत के खेल के आगे टिक नहीं सकी। हालांकि मैच के अंतिम मिनटों में भारत के लचीले प्रदर्शन का उसने फायदा उठाया और दो गोल किए।

इंग्लैंड ने मैच की आक्रामक शुरुआत की और पहले ही मिनट में भारतीय खेमे में हमला बोला, लेकिन वह गोल नहीं कर सके। भारत ने भी लय पकड़ने में देर नहीं की और तीसरे मिनट में सुमित ने गोल मारने की कोशिश की लेकिन गेंद पोस्ट से टकरा कर वापस आ गई।

यहां से मेजबानों ने इंग्लैंड पर दबाव बनाना शुरू कर दिया था लेकिन 10वें मिनट में जैक ली ने भारतीय रक्षापंक्ति को चकमा देते हुए शानदार फील्ड गोल कर अपनी टीम को एक गोल से आगे कर दिया। इसके बाद भारतीय खिलाड़ियों ने बराबरी की कोशिश की और कई हमले किए लेकिन मेहमानों की मजबूत रक्षापंक्ति ने उनसे यह मौके छीन लिए।

लेकिन भारत की मेहनत 24वें मिनट में सफल हुई जब उसे पेनाल्टी कॉर्नर मिला। लेकिन वरुण कुमार का शॉट चूक गया। वह रिवर्स पर भी गोल नहीं कर पाए लेकिन अंतत: परविंदर सिंह ने गेंद को गोलपोस्ट में पहुंचा कर भारत को बराबरी पर ला दिया। पहले हाफ के अंतिम मिनट में परविंदर ने अरमान को गेंद पास की जिसे गोलपोस्ट के सामने खड़े अरमान ने सिर्फ दिशा देते हुए गोलपोस्ट में डाला।

इंग्लैंड को भी इसी मिनट में अपना पहला पेनाल्टी कॉर्नर मिला था लेकिन वह गोल नहीं कर सके। भारत हाफ टाइम तक 2-1 से आगे थे। इस हाफ में विकास दहिया की शानदार गोलकीपिंग ने मेहमानों को कई बार बैकफुट पर रखा।

दूसरे हाफ में बढ़त के साथ उतरी मेजबान टीम ने इंग्लैंड को दबाव से उबरने का मौका नहीं दिया और दो मिनट बाद ही पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर स्कोर 3-1 कर दिया। हरमनप्रीत ने यह गोल 37वें मिनट में किया।

भारतीय खिलाड़ियों के हमले यहीं नहीं रुके। 46वें मिनट में हरमनप्रीत गेंद लेकर आगे बढ़े और सिमरनजीत को गेंद पास की। उन्होंने खाली पड़े गोलपोस्ट में गेंद को डाल स्कोर 4-1 कर दिया। मेजबानों को 60वें मिनट में एक और पेनाल्टी कॉर्नर मिला। इसे गोल में बदल कर वरुण कुमार ने इस मैच में अपना खाता खोला।

तमाम प्रयासों के बाद इंग्लैंड आखिरकार 63वें मिनट में अपना दूसरा गोल करने में सफल रहा। उसके लिए यह गोल विल कालनन ने किया। इसके चार मिनट बाद ही उसे पेनाल्टी कॉर्नर मिला, एडवर्ड ने इसे गोल में बदल कर उसके लिए तीसरा गोल किया, लेकिन ये दोनों गोल सिर्फ जीत के अंतर को कम कर पाए।