नई दिल्ली : मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव शुक्रवार दोपहर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान उन्होंने राज्य से संबंधित कई लंबित मामलों पर चर्चा की।

लगभग घंटे भर चली बैठक में मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को चार वर्ष पहले राज्य के गठन के समय से केंद्र में लंबित कई मांगों से अवगत कराया।

प्रधानमंत्री मोदी को शाल से सम्मानित करते हुए मुख्यमंत्री केसीआर
प्रधानमंत्री मोदी को शाल से सम्मानित करते हुए मुख्यमंत्री केसीआर

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, राव ने मोदी के सामने तेलंगाना के लिए पृथक उच्च न्यायालय, कलेश्वरम परियोजना के लिए केंद्र से कोष, रेलवे परियोजनाओं को गति देने, नए राज्य सचिवालय भवन के लिए रक्षा भूमि का आवंटन, पिछड़े जिलों और सूचना प्रौद्योगिकी तथा निवेश क्षेत्र (आईटीआईआर) कोष को जारी करने, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएम) की स्वीकृति और करीमनगर में भारतीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईआईटी) की स्थापना करने की मांगें रखीं।

केसीआर के नाम से प्रसिद्ध राव ने मोदी को 10 ज्ञापन सौंपे, जिनमें विभिन्न मागों का उल्लेख किया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार, इन मुद्दों पर प्रधानमंत्री की प्रतिक्रिया सकारात्मक रही।

मुख्यमंत्री  के. चंद्रशेखर राव, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व शैलेंद्र कुमार जोशी तेलंगाना मुख्य सचिव
मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व शैलेंद्र कुमार जोशी तेलंगाना मुख्य सचिव

केसीआर ने मोदी से राष्ट्रपति के जरिए एक नया आदेश जारी कराने का आग्रह किया, जिससे राज्य सरकार द्वारा निर्णीत नई क्षेत्रीय प्रणाली को लागू किया जाए। क्षेत्रीय प्रणाली का लक्ष्य रोजगार में स्थानीय निवासियों को 95 फीसदी आरक्षण सुनिश्चित करना है।

राव द्वारा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के विकल्प के रूप में तीसरे मोर्चे की अवधारणा पेश किए जाने के बाद मोदी से उनकी यह पहली मुलाकात है।

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष आगामी आम चुनाव के लिए प्रस्तावित मोर्चे को समर्थन देने के लिए पिछले कुछ महीनों से विभिन्न क्षेत्रीय राजनीतिक दलों के नेताओं से मिल चुके हैं।