राजमंड्री (आंध्र प्रदेश) : वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायुडू प्रदेश को लोगों को दो फिल्में दिखा रहा है। इनमें एक फिल्म है- अमरावती। वो देखो सिंगापुर वह हमारी राजधानी है। वो देखो जापान वह हमारी राजधानी है। इस प्रकार प्रदेश के लोगों को ग्राफिक्स दिखा रहा है।

दूसरी फिल्म है- पोलवरम। पोलवरम फिल्म में कलेक्शन ज्यादा मिलता है। इसीलिए हर सोमवार को पोलवरम फिल्म को दिखाने की कोशिश करता रहता है। वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने प्रजा संकल्प यात्रा के दौरान श्यामला थिएटर सेंटर में आयोजित आमसभा में यह बात कही।

इस प्रकार चंद्रबाबू नायुडू लोगों को धोखा देने में पीएचडी हासिल किया है। वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि एक परियोजना को छह बार शिलान्यास करता है। बाद में उसे राष्ट्र को समर्पित करता है।

उन्होंने कहा कि पोलवरम परियोजना चंद्रबाबू का सपना है। वाईएस जगन ने चंद्रबाबू से सवाल किया कि नौ साल तक सत्ता में रहने के बाद भी पोलवरम परियोजना को पूरा क्यों नहीं किया है? उन्होंने बताया कि वाईएसआर के शासनकाल में पोलवरम के दाये और बांये नहर का काम 90 प्रतिशत पूरा हुआ था।

वाईएस जगन ने कहा कि वाईएसआर के शासनकाल में राजमंड्री में आठ हजार मकान बनवाकर दिये हैं। मगर चंद्रबाबू के शासनकाल में एक मकान भी नहीं बनाये गये है। दिवंगत वाईएसआर राजमंड्री के साथ बहुत प्यार करते थे। राजमंड्री में हवाईअड्‍डे के निर्माण काम वाईएसआर के शासनकाल में शुरू हुआ था। वाईएसआर के समय ही गोदावरी पर चौथा ब्रिज निर्माण किया गया। चंद्रबाबू ने इन चार सालों में क्या है?

वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि चंद्रबाबू ने हर वर्ग के साथ धोखा किया है। चंद्रबाबू के राज में संविधान नहीं चलता है। कानून का पालन नहीं होता है। चंद्रबाबू के शासन में हर जगह भ्रष्टाचार का बोलबाला है।

वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि टीडीपी के विधायक वड्‍डी वीरभद्रर राव ने पोलवरम परियोजना के बारे में मीडिया के सामने चंद्रबाबू से पूछा था कि इस परियोजना को कब पूरा करोगे। इतना नहीं वीरभद्र राव ने पोलवरम परियोजना के लिए दिल्ली तक तीन हजार किलोमीटर की साइकिल यात्रा भी की। मगर चंद्रबाबू ने पोलवरम मुद्दे पर कुछ भी नहीं कहा है।

उन्होंने कहा कि इतने सालों तक खामोश रहने वाले चंद्रबाबू अब एक साल में पोलवरम परियोजना पूरा करने के आश्वासन देकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं। ऐसा एक दिन भी नहीं गया है कि वीरभद्र राव पोलवरम परियोजना के बारे में चंद्रबाबू ने नहीं पूछा हो। आखिर चंद्रबाबू की रवैये तंग आकर वीरभद्र राव टीडीपी से इस्तीफा देकर वाईएसआरसीपी में शामिल हुए है।

वाईएस जगन ने कहा कि चंद्रबाबू को भगवान का डर नहीं है। गोदावरी पुष्कर के दौरान दो करोड़ रुपये खा गये। सड़कों का निर्माण और विकास कार्यक्रम के नाम पर जितना मिला उतना लूटकर ले गया है। भगवान की सम्पत्ति को यदि स्वाहा कर गया है तो वो चंद्रबाबू मात्र है।

बीते पुष्कर के दौरान अभिनेता जैसा दिखाई देने के लिए चंद्रबाबू ने वीआईपी घाट को छोड़कर सामान्य लोगों की घाट पर स्नान करने निकल पड़े। उस दौरान हुए भगदड़ हादसे में 29 लोगों की जाने चली गई।

वाईएस जगन के बड़ी तस्वीर लेकर चलते प्रशंसक
वाईएस जगन के बड़ी तस्वीर लेकर चलते प्रशंसक
रोड कम ब्रिज पर लोगों का समूह
रोड कम ब्रिज पर लोगों का समूह

इससे पहले वाईएस जगनमोहन रेड्डी की प्रजा संकल्प यात्रा मंगलवार को पूर्वी गोदावरी जिले में प्रवेश किया है। वाईएस जगनमोहन रेड्डी के स्वागत के लिए 600 नाव में पार्टी के ध्वज लगाये गये हैं। वाईएस जगन की पदयात्रा रोड कम रेलवे ब्रिज पर से गुजरी।

वाईएस जगन के साथ पार्टी के नेता और कार्यकर्ता चले थे। कदम-कदम पर वाईएस जगन का स्वागत किया गया।

ब्रिज पर लोगों समूह
ब्रिज पर लोगों समूह

पार्टी के प्रशंसक इस दौरान वाईएस जगन जिंदाबाद और वाईएसआरसीपी जिंदाबाद के नारे लगाये है।

600 नावों पर वाईएसआरसीपी के ध्वज
600 नावों पर वाईएसआरसीपी के ध्वज