पटना: लालू प्रसाद की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही, वहीं प्रवर्तन निदेशालय और सरकार की अन्य एजेंसियां लालू की कथित भ्रष्टाचार की जड़ खोदने में लगी है। ताजा घटनाक्रम में ईडी ने पटना स्थित लालू परिवार के मॉल को जब्त कर लिया है। बताया जाता है कि रेल मंत्री रहते लालू ने होटलों को लीज पर देने के एवज में ये जमीन हासिल की थी। जिसपर बिहार का सबसे बड़ा मॉल खड़ा करने की तैयारी चल रही थी।

यह भी पढ़ें:

दर्द से परेशान हैं लालू प्रसाद, इस बीमारी के इलाज के लिए RIMS में शिफ्ट

ये मॉल पटना से सटे दानापुर में है। तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी के नाम से इस मॉल का नामकर किया गया था। करीब 115 कट्ठा यानी 6 बीघा में ये मॉल खड़ा होना था। जो वाकई बिहार का सबसे बड़ा शॉपिंग मॉल होता।

लालू परिवार के निर्माणाधीन मॉल को ईडी अधिकारियों ने सीज किया
लालू परिवार के निर्माणाधीन मॉल को ईडी अधिकारियों ने सीज किया

इस मॉल से जुड़े कई विवादों का लालू प्रसाद के परिवार को सामना करना पड़ा। इससे पहले मॉल निर्माण में पर्यावरण मंत्रालय ने अड़ंगा लगाया था। फिर मॉल की मिट्टी को लेकर भी लालू परिवार पर आरोप लगाए गए थे।

सूत्रों के मुताबिक जब लालू प्रसाद रेल मंत्री थे तब रांची और पुरी के दो रेलवे के होटलों को उन्होंने लीज पर दे दिया था। उसी के एवज में उन्हें ये जमीन मिली जिसे परिवार के नाम पर रजिस्ट्री कराई गई थी।

इस मामले में लालू पर होटल सुजाता और हर्ष कोचर से अनैतिक लाभ लेने का खुलासा हुआ था। मामले का भंडाफोड़ मौजूदा उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने किया था। साथ ही तत्कालीन जल संसाधन मंत्री ललन सिंह ने भी इस मामले के कई पहलुओं को उजागर किया था।

आरजेडी के सुरसंड विधायक सैयद अबु दौजाना की मेरिडियन कंस्ट्रक्शन कंपनी इस मॉल का निर्माण करा रही थी। अब इस पूरे मामले में लालू प्रसाद का परिवार मुश्किल में है।