नई दिल्ली: आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज की खुदकुशी के बाद कई तरह के सवाल उठने लगे हैं। कुछ लोग इसमें साजिश की ओर भी इशारा कर रहे हैं और सीबीआई जांच की मांग भी की जाने लगी है.

भय्यूजी महाराज का सुसाइड नोट भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। जिसमें भय्यूजी ने अपनी मौत के लिए किसी को भी जिम्मेदार नहीं बताया। जिससे लगा कि ये मामला सीधे सीधे आत्महत्या का है, और कोई खास पेंच नहीं।

यह भी पढ़ें:

आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने की खुदकुशी, पारिवारिक कलह से थे परेशान

पुलिस ने गौर किया तो पत्र में लिखा था भय्यूजी जिंदगी में पारिवारिक तनाव से ग्रसित थे। अब पुलिस के लिए चुनौती बढ़ गई है। किस तरह तनाव झेल रहे थे, भय्यूजी। परिवार में वो कौन शख्स है जिसने महाराज को परेशान कर रखा था।

भय्यूजी महाराज ने खुदकुशी से 20 मिनट पहले ट्वीट किया था। ये ट्वीट आध्यात्म से जुड़ी थी। अब सवाल उठ रहा है कि कोई व्यक्ति खुदकुशी के पहले आध्यात्म पर बात कैसे कर सकता है। जिस दरम्यान भय्यूजी ने ट्वीट किया, उन्ही लम्हों में उन्होंने अपना सुसाइड नोट भी तैयार किया होगा। जबकि दोनों ही अभिव्यक्तियां भावनात्मक तौर पर एक दूसरे के उलट हैं।

भय्यूजी महाराज का अंतिम ट्वीट
भय्यूजी महाराज का अंतिम ट्वीट

भय्यूजी ने ट्वीट के जरिये भक्तों को मासिक शिवारात्रि के बारे में बताया। ये ट्वीट करीब 1 बजकर 57 मिनट पर किए गए थे। इसके करीब 20 मिनट बाद भय्यूजी ने खुदकुशी कर ली।

पुलिस फिलहाल परिस्थितियों के साथ भय्यूजी की मनोदशा पर भी विचार कर रही है। भले महाराज ने मौत की जिम्मेदारी के लिए परिजनों को क्लीन चिट दे दी हो। बावजूद इसके पुलिस मामले को खंगालने की तैयारी कर रही है।