जकार्ता: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को दक्षिण पूर्व एशिया के तीन देशों के अपने दौरे के पहले पड़ाव इंडोनेशिया पहुंच गए, जहां उनका रस्मी स्वागत किया गया। इसके बाद वह मलेशिया और सिंगापुर भी जाएंगे।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि मोदी का इंडोनेशिया में रस्मी स्वागत किया गया। रवीश ने कहा, "भारत और इंडोनेशिया का रिश्ता सदियों पुराना है और व्यापारी व धार्मिक हस्तियां मॉनसून के दौरान हिंद महासागर पार कर आते-जाते रहे हैं।"

इंडोनेशिया पहुंचने पर भारतीय समुदाय ने पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया
इंडोनेशिया पहुंचने पर भारतीय समुदाय ने पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया

मोदी ने अपने प्रस्थान से पहले सोमवार को नई दिल्ली में कहा था कि उन्हें पूरा भरोसा है कि इंडोनेशिया, मलेशिया और सिंगापुर का उनका दौरा भारत की एक्ट ईस्ट नीति को और बढ़ावा देगा और तीनों देशों के साथ संबंधों और आदान-प्रदान में तेजी आएगी।

मोदी इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो के साथ 30 मई को द्विपक्षीय शिखर बैठक करेंगे। वह इंडोनेशिया में भारतीय समुदाय के लोगों को भी संबोधित करेंगे।

मोदी 31 मई को इंडोनेशिया से सिंगापुर जाते समय रास्ते में संक्षिप्त समय के लिए मलेशिया में रुकेंगे और नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद से मुलाकात करेंगे।

इंडोनेशिया पहुंचने पर भारतीय समुदाय ने पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया
इंडोनेशिया पहुंचने पर भारतीय समुदाय ने पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया

चीन पर है नजर

पीएम मोदी की इंडोनेशिया यात्रा दरअसल चीन को घेरने की तैयारी है। चीन को लेकर सशंकित सभी पड़ोसी देशों से भारत अपने रिश्ते मजबूत करना चाहता है। इंडोनेशिया, मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा में पीएम मोदी खुद को साबित करने की पूरी कोशिश करेंगे। पीएम मोदी आज से इन देशों की पांच दिवसीय यात्रा पर हैं। जानकारों की मानें तो भारत 'एक्ट ईस्ट नीति' के तहत अपनी बातों को पुरजोर तरीके से रखेगा।