नई दिल्ली : कर्नाटक में भले ही चुनाव संपन्न हो गए हों, लेकिन नई सरकार को लेकर सस्पेंस अभी भी बरकरार है। राजनीतिक उठापटक और जोर आजमाइस के बीच भाजपा के नव निर्वाचित विधायकों की आज बैठक हुई। बैठक में केन्द्रीय पर्यवेक्षक के रूप में केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा और धर्मेन्द्र प्रधान शामिल हुए। साथ ही मंत्री प्रकाश जावड़ेकर भी रहे।

बैठक के बाद येदियुरप्पा को विधायक दल का नेता चुना गया है। येदियुरप्पा और प्रकाश जावड़ेकर ने राज्यपाल से मुलाकात की।

सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार, भाजपा ने राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश किया है। साथ ही बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि वह कल शपथ लेंगे और उसकी तैयारी शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि राज्यपाल ने भाजपा को सरकार बनाने का न्यौता दिया है।

जानकारी के अनुसार, भाजपा संसदीय बोर्ड ने मंगलवार को दोनों वरिष्ठ नेताओं को बेंगलुरू भेजने का निर्णय लिया। भाजपा के मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी ने संवाददाताओं को बताया, "जेपी नड्डा और धर्मेन्द्र प्रधान बेंगलूरू में सुबह 11 बजे नव निर्वाचित विधायकों की बैठक में भाग लेंगे। वे केन्द्रीय पर्यवेक्षक के रूप में शामिल होंगे।''

यह भी पढ़ें :

राज्यपाल से मिले येदियुरप्पा और कुमारस्वामी, बहुमत साबित करने के लिए BJP ने मांगे 48 घंटे

कर्नाटक : सरकार बनाने के लिए बीजेपी ने तेज की कवायद, मोदी के 3 मंत्री बेंगलुरू रवाना

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम में भाजपा बहुमत हासिल करने से कुछ कदम दूर रह गयी है और पार्टी ने अपने तीनों वरिष्ठ नेताओं को राज्य में अगली सरकार बनाने के लिए आवश्यक आंकड़ों तक पहुंचने के लिए संभावित गठबंधन पर बातचीत के लिए वहां भेजा है।

कांग्रेस ने कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए तीसरे बड़े दल जद (एस) को अपना समर्थन देने की घोषणा की है। मंगलवार को दोपहर नई दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, प्रकाश जावड़ेकर और जेपी नड्डा बेंगलुरू के लिए रवाना हो गये। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी अमित शाह के आवास पर उपस्थित थे।