मुंबई : धन शोधन के एक मामले में जमानत पर चल रहे वरिष्ठ राकांपा नेता छगन भुजबल को केईएम अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। वह पिछले एक सप्ताह से अस्पताल में भर्ती थे। अस्पताल प्रशासन ने कहा कि भुजबल की मेडिकल रिपोर्टें ठीक हैं जिसके बाद उन्हें छुट्टी देने का फैसला किया गया। बहरहाल, अस्पताल ने उनकी बीमारियों के बारे में अन्य कोई जानकारी नहीं दी। भुजबल (70) धन शोधन के मामले में मार्च 2016 से जेल में बंद थे।

बंबई उच्च न्यायालय ने उनकी उम्र और बिगड़ती तबीयत पर विचार करने के बाद चार मई को उन्हें जमानत दे दी थी। आर्थर रोड जेल से रिहा होने के बाद भुजबल को परेल इलाके के केईएम अस्पताल में भर्ती कराया गया। केईएम अस्पताल के डीन डॉ. अविनाश सुपे ने तब कहा था कि भुजबल की कुछ मेडिकल रिपोर्टें आनी हैं और उसके बाद वे उन्हें छुट्टी देने पर फैसला लेंगे। अस्पताल के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ भुजबल की मेडिकल रिपोर्टें ठीक है इसलिए हमने उन्हें छुट्टी देने का फैसला किया है। उनका कई बीमारियों का इलाज चल रहा है लेकिन हम जानकारी नहीं दे सकते।''

इसे भी पढ़ें :

महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री छगन भुजबल को जमानत, 2 साल बाद जेल से आए बाहर

कांग्रेस - राकांपा सरकार में लोक निर्माण विभाग संभालने वाले भुजबल को मार्च 2016 में गिरफ्तार किया गया था। ईडी ने एक जांच में पाया कि भुजबल ने पीडब्ल्यूडी के ठेकों को देने में अपने पद का दुरुपयोग किया। उनके बेटे पंकज भुजबल ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से उनके आवास पर मुलाकात की थी। शिवसेना के एक विधायक से यह पूछने पर कि क्या जमानत मिलने के बाद छगन भुजबल अपनी राजनीतिक विचारधारा बदल सकते हैं, इस पर नेता ने कहा कि इसकी संभावना नहीं है।