नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने 2017 में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ कथित रूप से बदसुलूकी करने तथा उनका पीछा करने के मामले में दिल्ली विश्वविद्यालय के चार छात्रों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट स्निग्धा सरवारिया के समक्ष अंतिम रिपोर्ट दाखिल की गई है , जिन्होंने आरोप पत्र का संज्ञान लिया और मामले की अगली सुनवाई 15 अक्तूबर को मुकर्रर की। चारों युवकों की पहचान सीतांशु, करण, अविनाश और अमित के तौर पर हुई थी।

उनके खिलाफ पीछा करने , आपराधिक धमकी देने और महिला की अस्मिता के साथ छेड़छाड़ करने का इरादा रखने का मामला दर्ज किया गया था। न्यायाधीश ने कहा, ‘‘ मैं आरोप पत्र में उल्लेखित आरोपों का संज्ञान लेती हूं। सभी तथ्यों और मामले की परिस्थितियों पर विचार करते हुए, आरोपियों को समन करने के लिए रिकॉर्ड में पर्याप्त सामग्री है।

ये भी पढ़ें--

उन्नाव गैंगरेप पर बोली स्मृति ईरानी- कानून के अनुरूप होगी कार्रवाई, दोषियों को मिलेगी सजा

फेक न्यूज पर स्मृति ईरा

'' अप्रैल 2017 में , पुलिस ने आरोप लगाया था कि शराब के नशे में धुत छात्रों ने लुटियन की दिल्ली में स्मृति की कार का पीछा किया जिसके बाद उन्हें हिरासत में लिया गया। पुलिस ने कहा था कि शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने उस कार को रोका जिसमें चारों युवक सवार थे। छात्रों की उम्र 18-19 साल है। यह घटना चाणक्यपुरी में अमेरिकी दूतावास के पास हुई थी।

छात्रों को चाणक्यपुरी पुलिस थाने में हिरासत में लिया गया था। इसने दावा किया था कि आरोपियों का मेडिकल परीक्षण कराने पर उनके खून में शराब की मौजूदगी की पुष्टि हुई थी।

बता दें स्मृति ईरानी के साथ वर्ष 2017 ये दुर्व्यवहार हुआ था। दिल्ली विश्वविद्यालय के चार छात्रों को अप्रैल 2017 में दिल्ली के चाणक्यपुरी इलाके में नशे में धुत होकर स्मृति ईरानी की कार का 'पीछा करने, दुर्व्यवहार करने और उनकी कार को ओवरटेक करने' के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

इन लोगों को मंत्री के सुरक्षा कर्मियों की शिकायत के आधार पर गिरफ्तार किया गया था।