चिन्यालीसौर : देश भर में चलाए जा रहे अपने लड़ाकू अभ्यास के तहत, भारतीय वायु सेना ने उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में मंगलवार को अपनी अवसंरचना की रणनीतिक तैयारी का आकलन करने के लिए अभ्यास किया।

भारतीय वायु सेना के अधिकारियों ने हालांकि मीडिया से दूरी बनाए रखी, लेकिन सूत्रों ने बताया कि "गगन शक्ति'' नामक यह अभ्यास भारत चीन सीमा से 230 किमी दूर चिन्यालीसौर शहर में सुबह छह बजकर करीब तीस मिनट पर शुरू हुआ।

सूत्रों ने बताया कि वायु सेना के अधिकारियों को लेकर पहला एएन-32 मालवाहक विमान सुबह सात बजकर करीब 15 मिनट पर चिन्यालीसौर हवाई पट्टी पर उतरा। इसी हवाई पट्टी पर विमान सात बज कर 45 मिनट पर दूसरी बार और फिर आठ बजकर एक मिनट पर तीसरी बार उतरा।

वायुसेना में कमियों को दूर करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध : रक्षा मंत्री

उन्होंने बताया कि चिन्यालीसौर में वायु सेना का अभ्यास रविवार तक चलेगा। बताया जाता है कि "गगन शक्ति'' कई दशकों में वायु सेना का सबसे बड़ा अभ्यास है। चीन और भारत सहित सभी संभावित सुरक्षा चुनौतियों से निपटने पर ध्यान केंद्रित करने के साथ साथ अपनी परिचालनगत तैयारियों की जांच के लिए वायु सेना यह अभ्यास कर रही है।

हम युद्ध के लिए हर समय तैयार: वायुसेना प्रमुख BS धनोआ

अधिकारियों ने बताया कि दो सप्ताह का यह अभ्यास आठ अप्रैल को शुरू हुआ और 22 अप्रैल तक चलेगा। पिछले शनिवार को वायु सेना ने पश्चिमी समुद्री तट पर एक नौवहन हवाई अभियान चलाया था। वायु सेना ने यह अभियान हिंद महासागर क्षेत्र और इसके आगे अपनी गहरी मारक क्षमता के आकलन के लिए चलाया था।