शिलांग : उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने ‘‘ बैंक घोटालों से देश की छवि खराब '' होने की बात को स्वीकार की। उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने आगे कहा है कि ‘‘ ब्रांड इंडिया के नेताओं में सच्ची ईमानदारी और नैतिक मूल्य '' होने चाहिए। उन्होंने भारतीय प्रबंधन संस्थान

(आईआईएम) में दीक्षांत समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा है कि कुछ लोगों में कानून का भय ना होने से पिछले कुछ सालों में घोटाले बढ़े हैं। उपराष्ट्रपति ने छात्रों से भारत को गौरवन्वित करने के लिए नैतिक मानदंडों का प्रदर्शन करने का आह्वान किया।

इसे भी पढ़ें :

वेंकैया नायडू ने कहा है कि ‘‘ ईमानदारी , सत्यवादिता के मूल्यों का पालन करना जरूरी है। साथ ही सर्वश्रेष्ठ चलनों को अपनाया जाना चाहिए। कंपनियों की नैतिकता का उल्लंघन नहीं चाहिए। '' उन्होंने साथ ही भारत के आर्थिक विकास को लेकर एशियाई विकास बैंक के पूर्वानुमानों का हवाला देते हुए कहा कि आने वाले वर्षों में युवाओं के लिए प्रबंधन क्षेत्र में काफी अवसर होंगे। नायडू ने राजग सरकार की नयी कर व्यवस्था की सराहना करते हुए कहा कि इससे ‘‘ भविष्य में भारत के विकास को गति मिलेगी।''