नई दिल्ली / जम्मू: कठुआ रेप और हत्या मामले में कोर्ट की सुनवाई आज शुरू हुई। मामले में सभी आरोपियों ने खुद को निर्दोष बताया और नार्को टेस्ट की मांग की। इस कांड के नाबालिग आरोपी ने कोर्ट में जमानत की याचिका दाखिल की। जिसे हालांकि कोर्ट ने नामंजूर कर दिया। मामले की अगली सुनवाई 28 अप्रैल को होगी।

सुनवाई के बाद आरोपियों की वकील अंकुर शर्मा ने जानकारी दी। उनके मुताबिक कोर्ट ने सभी आरोपियों को चार्जशीट की कॉपी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। इस मामले में

वहीं मामले में पीड़ित पक्ष की वकील ने खुद को जान का खतरा महसूस होने की बात कही। उनके मुताबिक जल्दी ही वे इस बारे में कोर्ट में सुरक्षा के लिए गुहार लगाएंगी। वहीं, पीड़िता के पिता ने मामले को कठुआ से चंडीगढ़ ट्रांस्फर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई है। इसको लेकर आज 2 बजे सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई होगी।

यह भी पढ़ें:

कठुआ रेप: आरोपियों को बचाने का आरोप झेल रहे मंत्रियों ने दिया इस्तीफा

कठुआ गैंगरेप: मासूम की हत्या पर भद्दी टिप्पणी करने वाला कर्मचारी बर्खास्त

इस मामले में आरोपी सांझी राम की बेटी ने साजिश की आशंका जाहिर की है। उनके मुताबिक सीबीआई जांच के बाद मुकम्मल खुलासा होगा। सांझी राम की बेटी ने किसी शख्स का नाम भी लिया, साथ ही उस पर आरोप लगाया कि वो ही पूरे मामले का सूत्रधार है।

वहीं पीड़िता की वकील दीपिका सिंह राजावत ने भी खुद की जान को खतरा होने की आशंका जाहिर की है। उन्होंने भी केस को जम्मू कश्मीर से बाहर ट्रांस्फर करने की गुहार लगाई है। साथ ही राजावत ने आशंका जाहिर की है कि उनके साथ भी रेप जैसी घटना हो सकती है।

बेहद चर्चित इस मामले में आठ साल की मासूम बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया, इसके बाद बर्बर तरीके से उसकी हत्या कर दी गई। आरोपों के मुताबिक बच्ची को पहले अगवा किया गया और एक हफ्ते तक धार्मिक स्थल में बंध बनाकर उसके साथ अपराध को अंजाम दिया गया।