उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा और बसपा की ‘बेमेल सौदेबाजी‘ को और अपनी पार्टी के अति आत्मविश्वास को गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में भाजपा के खराब प्रदर्शन के लिये फौरी तौर पर जिम्मेदार बताया और कहा कि पार्टी नतीजों की समीक्षा करेगी।

योगी ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में भाजपा के खराब प्रदर्शन के बारे में संवाददाताओं से कहा कि जब इन दोनों सीटों के उपचुनाव के लिये प्रत्याशी घोषित हुए थे, तब सपा, बसपा और कांग्रेस समेत सभी अलग-अलग थे। लेकिन चुनाव के बीच में सपा-बसपा के बीच जो आपसी सौदेबाजी और बेमेल गठबंधन हुआ उसको समझने में कहीं ना कहीं कमी रही और अति आत्मविश्वास उसका कारण है।

उन्होंने कहा ‘‘कहां कमी रह गयी है, इस बात की हम अवश्य समीक्षा करेंगे। सपा और बसपा की यह राजनीतिक सौदेबाजी एक बार फिर प्रदेश और देश के विकास को बाधित करने के लिये हुई है। वर्ष 2019 के लिये इसके बारे में अपनी पूरी रणनीति तैयार करेंगे।''

यह भी पढ़ें :

यूपी उपचुनाव : फूलपुर में मुरझाया कमल, 59,613 वोटों से जीती सपा

सोनिया गांधी की ‘डिनर पॉलिटिक्स’ में शामिल हुआ विपक्ष, कइयों ने किया किनारा

RJD के लिए खुशी लेकर आए उपचुनाव परिणाम, तेजस्वी ने कहा- जनता के प्यार से मिली शक्ति

मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों का हारना निश्चित रूप से समीक्षा का विषय है। कमियों को दूर करने और भविष्य की बेहतर योजना के लिये हम जी-जान से लगकर कार्य करेंगे दिखायेंगे। प्रदेश के अंदर जो बेमेल राजनीतिक सौदेबाजी का दौर फिर से शुरू हुआ है, उसे प्रदेश की जनता समझेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उपचुनाव के नतीजे जनता का फैसला हैं, लोकतंत्र में जनता जनार्दन के रूप में है। हम उसके फैसले को स्वीकार करते हैं। उपचुनाव में स्थानीय मुद्दे हावी होते हैं। आम चुनाव जब होंगे तो उसमें राष्ट्रीय मुद्दे होंगे। देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पिछले चार सालों में जो कार्य हुए हैं, उनसे देश में एक विश्वास जगा है।