लखनऊ : उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को तगड़ा झटका देते हुए समाजवादी पार्टी (सपा) ने बुधवार को फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीटों पर अप्रत्याशित प्रदर्शन किया। फूलपुर लोकसभा सीट पर समाजवादी पार्टी के नागेंद्र प्रताप सिंह पटेल ने 59,613 मतों से जीत दर्ज की है। वहीं गोरखपुर में सपा उम्मीदवार प्रवीण कुमार निसाद ने 21 हजार से ज्यादा मतों से जीत दर्ज की है।

गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में समाजवादी प्रत्याशी प्रवीन निषाद ने भाजपा प्रत्याशी उपेंद्र दत्त शुक्ला को 21 हजार 961 मतों से हराया । दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के नागेंद्र प्रताप सिंह पटेल ने भाजपा के कौशलेंद्र सिंह पटेल को 59,460 मतों के अंतर से हराकर फूलपुर लोकसभा उपचुनाव जीत लिया।

गोरखपुर सीट उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और फूलपूर सीट उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के सांसद पद से इस्तीफा देने के बाद खाली हुई थी।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने अपनी कट्टर प्रतिद्वंद्वी समाजवादी पार्टी को उपचुनाव में समर्थन का ऐलान किया था। यह हार मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के लिए एक बड़ा धक्का साबित होगी। फूलपूर और गोरखपुर में रविवार को मतदान हुआ था।

उपचुनाव में सपा की जीत के बाद पार्टी मुख्यालय में जश्न का माहौल है। सपा कार्यकर्ताओं में सबसे ज्यादा इस बात की खुशी है कि पार्टी ने मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री द्वारा रिक्त की गयी लोकसभा सीटों पर कब्जा किया है।

सपा मुख्यालय पर 'बुआ भतीजा जिंदाबाद' के नारे भी लग रहे हैं। यहीं नहीं सपा कार्यालय पर कुछ कार्यकर्ता सपा के साथ साथ बसपा का नीला झंडा भी लहरा रहे है। जीत से उत्साहित कार्यकर्ता गुलाल खेल कर खुशियां मना रहे हैं और मिठाईयां बांट रहे हैं।

उधर, भाजपा कार्यालय पर सुबह तो कार्यकर्ताओं की थोड़ी भीड़ भी थी जो दोपहर आते आते कम हो गयी। भाजपा के नेताओं ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष महेंद्र पांडे अचानक दिल्ली चले गये हैं।

यह भी पढ़ें :

सोनिया गांधी की ‘डिनर पॉलिटिक्स’ में शामिल हुआ विपक्ष, कइयों ने किया किनारा

RJD के लिए खुशी लेकर आए उपचुनाव परिणाम, तेजस्वी ने कहा- जनता के प्यार से मिली शक्ति

समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने कहा, "यह (प्रधानमंत्री नरेंद्र) मोदी और योगी (आदित्यनाथ) को अस्वीकार किया जाना है।" 2014 लोकसभा चुनाव के बाद से इन दोनों सीटों पर अचानक भाजपा के खिलाफ हुए मतदाताओं के रुख पर उन्होंने कहा, "उन्होंने बड़े-बड़े वादे किए लेकिन उन्हें पूरा नहीं किया। "

भाजपा ने 2014 में राज्य की 80 लोकसभा सीटों में से 73 पर जीत हासिल की थी। उसके सहयोगियों ने भी दो सीटों पर जीत दर्ज की थी। सपा ने पांच सीटें अपने नाम की थी जबकि कांग्रेस और बसपा अपना खाता खोलने में नाकाम रही थीं।

गोरखपुर के जिला अधिकारी राजीव रौतेला ने मतगणना केंद्रों पर पत्रकारों के प्रवेश पर रोक लगाकर विवाद खड़ा कर दिया था और पहले दो चरण के बाद वोटों की संख्या को जारी नहीं किया था। लेकिन, बाद में उन्होंने संवाददाताओं को हर दौर की गिनती की जानकारी दी। सपा कार्यकर्ताओं ने फूलपूर और गोरखपुर में जश्न मनाया जबकि भाजपा खेमे में सन्नाटा पसर गया है।