नई दिल्ली : भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय सचिव नारायण ने सनसनीखेज टिप्पणी करते हुए आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जे के मामले में मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायडू के रवैये को गलत बताया। उन्होंने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के निर्णयों का भी विरोध किया।

भाजपा से डर रहे हैं बाबू

भाकपा नेता ने कहा कि भाजपा के मामले में राजनीतिक निर्णय लेने में चंद्रबाबू नायडू डर रहे हैं। उन्होंने बाबू से पूछा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल से पार्टी के मंत्रियों से इस्तीफा दिलवा कर NDA में कैसे बने रह सकते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा राज्य के साथ अन्याय कर रही है, यह जानने के लिए बाबू के क्या चार साल लग गए। उन्होंने बताया कि केंद्र आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जे नहीं देगा। इसलिए चंद्रबाबू को चाहिए कि विशेष दर्जे के लिये सभी राजनीतिक दलों को साथ लेकर संघर्ष करें। उन्होंने कहा कि पैकेज दिया जाता भी है तो फंड खर्च करने के लिये समय नहीं है।

निजाम की याद दिला रहा है केसीआर का शासन

नारायण ने कहा कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव का शासन बीते निजाम के निरंकुश शासन की याद दिला रहा है। उन्होंने कहा कि विधानसभा में विपक्ष के नेता के.जाना रेड्डी को निलंबित करने का फैसला सही नहीं है। उन्होंने केसीआर पर विपक्ष को दबोचने के प्रयास करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से संसद और विधानसभा सत्र का बार-बार स्थगित करने की परंपरा सही नहीं है।

उन्होंने बताया कि देशभर में सभी दलों को भाजपा के विरुद्ध एक मंच पर लाएंगे। 25 से 29 अप्रैल तक केरल में होने वाली भाकपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा की जाएगी।