हैदराबाद: 1990 बैच के चर्चित आईपीएस अधिकारी अंजनी कुमार के 27 साल के करियर का अहम पड़ाव है। जब इन्हें हैदराबाद पुलिस कमिश्नर के तौर पर अहम जिम्मेदारी सौंपी गई है। अंजनी कुमार को राज्य पुलिस के आधुनिकीकरण सहित नक्सलियों के खिलाफ मुहिम में खास भूमिका निभाने का श्रेय जाता है। व्यक्तिगत तौर पर मृदुभाषी अंजनी कुमार को शासन की सख्ती और जन दबाव के बीच सामंजस्य बैठाने में महारत हासिल है।

अंजनी कुमार की पहली पोस्टिंग वरंगल के सबडिविजन जनगांव में बतौर एएसपी हुई थी। युवा अधिकारी के तेवर तभी से झलकने लगे थे। ये वो दौर था जब पूरा सूबा नक्सल हिंसा की तपिश से परेशान था। नक्सलियों के प्रति इनकी सुलझी समझ और रणनीतिक तेवर के चलते इन्हें बाद में ग्रेहाउंड्स पुलिस का मुखिया भी बनाया गया।

अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर 
अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर 

हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर अंजनी कुमार सीएम केसीआर की सराहना करते हैं। इनके मुताबिक मुख्यमंत्री के सहयोग से ही तेलंगाना पुलिस का आधुनिकीकरण संभव हो पाया। हर थाने को बेहतर वाहन, एसआई को अलग से मोटरसाइकिल के अलावा थाने में बैठने के लिए हरेक कॉन्सटेबल को जगह मिली। इसके लिए सरकार ने हरेक थाने को अतिरिक्त खर्च के लिए बड़ी रकम निर्धारित की है।

तभी तो आप तेलंगाना के किसी थाने में शिकायत लेकर जाएं तो वहां आपकी बात सुकून से सुनी जाती है। महौल में खौफ नहीं दिखता बल्कि पुलिसकर्मियों का संवेदनशील रवैया आपकी हौसलाफजाई करता है। इस सांगठनिक बदलाव में अंजनी कुमार का भी अहम रोल रहा है।

अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर
अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर

हैदराबाद पुलिस कमिश्नर की पोस्टिंग अंजनी कुमार के लिए बड़ी चुनौती नहीं है। हैदराबाद में बतौर एसीपी (कानून व्यवस्था) इनका अनुभव अब बेहतर काम आएगा, आज भी हैदराबाद ACP अंजनी कुमार को लोग नहीं भूले हैं, जिन्होंने चुटकियों में कई बड़े अपराधों का उद्भेदन किया था। शहर की बेहतर मनोवैज्ञानिक समझ इनके फैसलों में मददगार साबित होगी। अंजनी कुमार के मुताबिक हरेक क्राइम एक चैलेंज है। जरूरी ये कि लोगों का पुलिस के प्रति सहयोगात्मक रवैया बना रहे।

अंजनी कुमार सिंह का करियर: एक नजर में

  • एडीजी पुलिस (लॉ एण्ड ऑर्डर), तेलंगाना
  • एसीपी (लॉ एण्ड ऑर्डर), हैदराबाद
  • आईजी, वरंगल प्रक्षेत्र
  • ग्रेहाउंड्स प्रमुख
  • डीआईजी, निजामाबाद रेंज

अंजनी कुमार अपने करियर से संतुष्ट हैं, इन्होंने कई उपलब्धियां भी हासिल कीं। इन्हें भारत सरकार की तरफ से आंतरिक सुरक्षा और नक्सल क्षेत्र में बेहतर कार्य के लिए पुलिस मेडल से नवाजा गया। इसके अलावा राष्ट्रपति पुलिस पदक से भी ये सम्मानित हो चुके हैं। सन् 1998-99 के दौरान इन्होंने संयुक्त राष्ट्र (बोस्निया) में अपनी सेवाएं दी। जिसके लिए इन्हें दो बार यूएन पुलिस मेडल से नवाजा गया।

हाल में राष्ट्रपित डोनाल्ड ट्रंप की पुत्री इवांका ट्रंप जब हैदराबाद पहुंची, तो अंजनी कुमार ने सिटी पुलिस की तरफ से उनकी आधिकारिक अगवानी की थी। इससे पहले तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के हैदराबाद आगमन पर उनकी सुरक्षा की पूरी देखरेख अंजनी कुमार के ही कंधे पर थी। चाक चौबंद और दक्ष सुरक्षा इंतजामों के चलते इन्हें तब व्हाइट हाउस से प्रशस्ति पत्र भी हासिल हुआ था।

इवांका ट्रंप के साथ अंजनी कुमार 
इवांका ट्रंप के साथ अंजनी कुमार 

अलग तेलंगाना आंदोलन के दौरान अंजनी कुमार की भूमिका की आज भी सराहना की जाती है। तब वे वरंगल प्रक्षेत्र के आईजी थे। वरंगल में छात्रों और अलग तेलंगाना की मांग को लेकर राजनीतिक गतिविधियां काफी तेज थी। ऐसे में अंजनी कुमार ने सूझबूझ से काम लिया। इन्होंने सार्वजनिक संपत्ति को कम से कम हानि होने को प्राथमिकता दी। साथ ही आंदोलनकारियों को भी अपने प्रभाव से काबू में रखा। लोकतंत्र की मर्यादा का ख्याल रखते हुए कभी भी इन्होंने जन आंदोलनों के प्रति सख्ती नहीं दिखाई। हां, कर्तव्य पालन की खातिर कार्रवाई करने में भी ये कभी पीछे नहीं रहे।

हैदराबाद के चर्चित गैंग्सटर नईम इनकाउंटर को लेकर सरकार की किरकिरी हो रही थी। केसीआर ने तब अंजनी कुमार पर ही भरोसा किया और इस मामले में गठित एसआईटी का हेड इन्हें बनाया गया। नईम को लेकर हैदराबाद पुलिस पर ही सांठ गांठ के तरह तरह के आरोप लगाए जा रहे थे। ऐसे में अंजनी कुमार ने सधी जांच प्रक्रिया को अंजाम दिया, और सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपी। नईम इनकाउंटर मामले में अंजनी कुमार की कार्रवाई और रिपोर्ट के बाद सरकार ने राहत की सांस ली थी।

अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर
अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर

घुड़सवारी, तैराकी, बॉस्केटबॉल सरीखे खेलों में अंजनी कुमार अव्वल रहे हैं। राष्ट्रीय पुलिस अकादमी में प्रशिक्षण के दौरान उम्दा घुड़सवारी के लिए इन्हें प्रतिष्ठित महाराजा ऑफ टोंक कप से नावाजा गया।

बिहार के अरवल जिला के कोयल भूपत गांव से ताल्लुक रखने वाले अंजनी कुमार मध्यमवर्ग की तकलीफों से पूरी तरह वाकिफ हैं। किसान परिवार से नाता इन्हें आम लोगों से जोड़ता है।

नौकरी की व्यवस्तता के बीच परिवार को समय नहीं दे पाना इन्हें सालता जरूर है। फिर भी इस बात की इन्हें शिकायत नहीं, क्योंकि इनका मानना है कि प्रोफेशनल की मांग के मुताबिक इतना समझौता तो करना ही पड़ता है।

अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर
अंजनी कुमार, हैदराबाद के नए पुलिस कमिश्नर

अंजनी कुमार की पत्नी वसुंधरा सिन्हा भारतीय वित्त सेवा में उच्चाधिकारी हैं। उन्हें भी पुलिस विभाग की कार्यशैली का इल्म है, लिहाजा उन्होंने पति से कभी भी समय न दे पाने की शिकायत नहीं की। परिवार में दो बेटों की समझ ऐसी कि वे माता-पिता की व्यवस्तता से कभी विचलति नहीं हुए। दोनों बेटों ने प्रतिष्ठित कॉलेजों से अभियंत्रण की पढ़ाई की है। जबकि अंजनी कुमार के बड़े भाई और भाभी भारतीय वन सेवा में हैं।

फिलहाल अंजनी कुमार को हैदराबाद पुलिस कमिश्नर के तौर पर नियुक्ति के बाद बधाइयों का तांता लगा हुआ है। लोगों की अपेक्षाएं बढ़ी हुई हैं, कर्मठ अधिकारी का प्रोफाइल देखकर तो यही लगता है कि आने वाले समय में हैदराबाद की कानून व्यवस्था और दुरुस्त होगी।