नेल्लोर : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के प्रमुख व आंध्र प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा है कि विशेष दर्जा आंध्र प्रदेश की जान और उसे हासिल करने तक उनकी पार्टी शांत नहीं बैठेगी। उन्होंने कहा कि 5 मार्च से शुरू होने जा रहे बजट सत्र में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सांसद संघर्ष करेंगे। उन्होंने बताया कि 6 अप्रैल को बजट सत्र खत्म होगा। इसके बाद भी कोई सफलता नहीं मिली, पार्टी के सभी सांसद अपना त्याग पत्र देंगे।

प्रजा संकल्प यात्रा के 86वें दिन श्रीपोट्टि श्रीरामुलु नेल्लोर जिले के उदयगिरि निर्वाचन क्षेत्र स्थित कलिगिरि गांव में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि गत 12 दिनों से राज्य में जारी ड्रामा भी सभी देख रहे हैं। उन्होंने बताया कि बजट पेश किये जाने की खबर मिलते ही चंद्रबाबू नायडू ने नया ड्रामा शुरू कर दिया और उनका यह ड्रामा किस स्तर तक पहुंचा था, इसके बारे में बताने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि केंद्र की राजग सरकार में टीडीपी के दो मंत्री शामिल हैं और बजट पेश करने से पहले सभी केंद्रीय मंत्रियों ने उसे मंजूरी दे दी। उस समय आपत्ति व्यक्त किये बिना बजट पेश करने के बाद हल्की राजनीति की जा रही है। YSRCP प्रमुख ने कहा कि बजट में आंध्र प्रदेश के साथ नाइंसाफी होने की बात से बाबू वाकिफ थे, लेकिन बजट पेश करने के बाद कहा कि अन्य राज्यों के मुकाबले आंध्र प्रदेश को अधिक मिला है।

ये भी पढ़े :

बिहार में टूट के कगार पर महागठबंधन, कांग्रेस ने राजद को दी ये चुनौती

BJP सांसदों ने क्यों बताया ज्योतिरादित्य से जान को खतरा, जानिए वजह

जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि विशेष दर्जा आंध्रवासियों का हक है और चंद्रबाबू ने रिश्वत और पैकेज लेने से साफ इनकार कर दिया। परंतु 6 जून 2017 को यही चंद्रबाबू नायडू ने सवाल किया कि पैकेज के मुकाबले विशेष दर्जे से क्या फायदा होने वाला है? देश में खुद को सबसे अधिक सीनियर बताते हुए कहा कि विशेष दर्जे से अधिक नुकसान होने की बात कही। लेकिन सच तो यह है कि उनकी सीनियारिटी विशेष दर्जे के बेचने में उपयोगी साबित हुई, लेकिन राज्य के हित में नहीं। उन्होंने कहा कि विशेष दर्जे की मांग को लेकर 1 मार्च को सभी जिला कलेक्टरों के सामने प्रस्तावित धरने में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी का हर कार्यकर्ता व नेता हिस्सा लेगा।

उन्होंने बताया कि 3 मार्च को वाईसीपी के विधायक, सांसद और पार्टी के वरिष्ठ नेता उस जगह पहुंचेंगे जहां उनकी पदयात्रा चलती रहेगी। वहां से झंडी दिखाकर उन्हें वहां से दिल्ली भेजा जाएगा। दिल्ली में पार्टी के सांसद जंतर-मंतर पर विशेष दर्जे की मांग को लेकर प्रदर्शन करेंगे और आंध्र प्रदेश के साथ हुए अन्याय के खिलाफ अपना विरोध जताएंगे।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का यह आंदोलन 6 अप्रैल तक निरंतर जारी रहेगा। इसके बाद भी कोई फायदा नहीं हुआ तो 6 अप्रैल को वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सभी सांसद अपने पद से इस्तीफा देकर वापस लौट आएंगे। उन्होंने कहा कि विशेष दर्जा हमारी जान है और उसके लिये हमारा संघर्ष नहीं रुकेगा।