हैदराबाद : YSRCP के नेता बोत्सा सत्यनारायण ने जोश भरे शब्दों में मुख्यमंत्री चंद्रबाबू से कहा कि राज्य का विकास कथनी से नहीं बल्कि करनी से होना चाहिए। चुनाव में चंद्रबाबू ने आश्वासन दिए, लेकिन इन्हें पूरा नहीं किया है।

उन्होंने कहा कि संयुक्त आंध्र प्रदेश का विभाजन करते समय कानून का हवाला देते हुए विकास के मुद्दे को अहम बताया गया, लेकिन विभाजन के बाद विकास कार्य की गति धीमी हो गयी । बोत्सा ने कहा कि केंद्रीय बजट को पेश हुए चार दिन हो गए हैं, लेकिन मुख्यमंत्री की बजाय दिल्ली में तेदेपा के सांसद आंदोलन का नाटक कर रहे हैं। उन्होंने सवाल किया है कि चंद्रबाबू आम लोगों के सामने क्यों नहीं आ रहे हैं।

YSRCP के नेता ने कहा कि तेदेपा ने चार वर्ष तक भाजपा के साथ गठबंधन बनाए रखा और अब आखिरी मोड़ पर आम चुनाव को देखते हुए नई राजनीतिक चाल चलने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री चंद्रबाबू ने अपने निजी स्वार्थ के लिए राज्य की धन-संपदा विदेशियों के पास गिरवी रखी है। उन्होंने कहा कि राज्य विभाजन के दौरान दिए गए आश्वासनों को लेकर YSRCP कतई समझौता नहीं करेगी।