हैदराबाद : कांग्रेस के पूर्व सांसद उंडवल्ली अरुण कुमार ने कहा कि राज्य विभाजन कानून के तहत विशाखापट्टनम में बननेवाली रिफाइनरी अब मुंबई में बनेगी। केंद्र सरकार ने केंद्रीय बजट में आंध्र प्रदेश को तवज्जों नहीं दी है। गत चार वर्ष से राज्य के साथ यही होता आया है।

पूर्व सांसद ने कहा कि केंद्र के साथ गठबंधन तोड़ने की चेतावनी चंद्रबाबू ने दी थी। इस चेतावनी का भाजपा पर कोई असर नहीं हुआ है। आगामी आम चुनाव को देखते हुए चंद्रबाबू ने नयी चाल चलने का प्रयास किया, लेकिन वे इसमें भी असफल हुए। उन्होंने आरोप लगाया कि गत चार वर्ष के दौरान तेदेपा ने राज्य का कोई विकास नहीं किया है।

उन्होंने कहा कि आखिरी मोड़ पर संसद में जाकर तेदेपा के सांसद द्वारा विकास का मुद्दा उठाना, कारगर साबित नहीं हुआ। राज्य के लिए केंद्र सरकार ने जो भी दिया , वह ठेकेदारों तक ही सीमित रहा। लोगों को केंद्र की सहायता का कोई लाभ नहीं पहुंचा है। अरुण कुमार ने कहा कि अभी भी समय बाकी है, केंद्र से चंद्रबाबू सीधे संघर्ष कर सकते हैं।