नई दिल्ली : योनेक्स-सनराइज डॉ. अखिलेश दास गुप्ता इंडिया ओपन-2018 की पूर्व संध्या पर शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी इसके लिए पूरी तरह से तैयार दिखे। यह टूर्नामेंट एचएसबीसी-बीडब्ल्यूएफ वल्र्ड टूर 500 का हिस्सा है।

ओलम्पिक में पदक जीत चुकीं घरेलू खिलाड़ी सायना नेहवाल और पीवी सिंधु ने कहा कि वह इस टूर्नामेंट में अपने पिछले रिकार्ड और मौजूदा फॉर्म के दम पर जाएंगी। जबकि ओलम्पिक चैम्पियन कैरोलिना मारिन इस चुनौतीपूर्ण सीजन के लिए तैयार हैं।

पुरुष वर्ग में किदाम्बी श्रीकांत अपने खराब फॉर्म को पीछे छोड़ते हुए वापसी करना चाहेंगे। यह चारों खिलाड़ी बुधवार से राष्ट्रीय राजधानी के सीरीफोर्ट स्टेडियम में शुरू हो रहे इस टूर्नामेंट के मुख्य ड्रॉ में उतरेंगे।

संवाददाता सम्मेलन में श्रीकांत ने कहा, "नवंबर में मुझे चोट लग गई थी। मुझे चीन और हांगकांग ओपन से नाम वापस लेना पड़ा था। इसके बाद में दुबई में खेला, जहां चीजें मेरे मुताबिक नहीं रहीं। पीबीएल के दौरान भी मैं चोटिल हो गया। मैं मलेशिया मास्टर्स नहीं खेलने वाला था लेकिन मुझे इंडोनेशिया ओपन छोड़ना पड़ा। लेकिन कई बड़े टूर्नामेंट आगे हैं जिनकी शुरुआत इंडिया ओपन से हो रही है और मैं इसके लिए तैयार हूं।"

श्रीकांत बुधवार को टूर्नामेंट में अपने अभियान का आगाज हांगकांग ली चेयुक यियू के खिलाफ करेंगे। पिछले सीजन में महिला एकल वर्ग का खिताब जीतने वाली सिंधु इंडिया ओपन से नई चुनौती के लिए तैयार हैं।

उन्होंने कहा, "फिट रहना और अपना सर्वश्रेष्ठ देने पर मेरा ध्यान है। हर दौरा मुश्किल होने वाला है इसलिए मैं एक समय एक ही मैच पर ध्यान दूंगी। हां मैं पिछले साल जीती थी, लेकिन यह अलग साल है। मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहती हूं।"

विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीतने वाली सिंधु अपना पहला मैच डेनमार्क की नतालिया रोहदे के खिलाफ खेलेंगी। लेकिन अगर वह जीतती जाती हैं तो उनकी असली चुनौती सेमीफाइनल में पूर्व विश्व चैम्पियन थाईलैंड की रतचानोक इंतानोन के रूप में सामने आएगी।

सायना जो जिन्हें ड्रॉ निचला स्थान मिला है वह भी पहले राउंड में डेनमार्क की खिलाड़ी डेन सोफी दहल से भिड़ेंगी। सायना ने कहा, "जीत के रास्ते पर लौटने के लिए इंडिया ओपन मेरे लिए सबसे बड़ा मौका है। यह प्रतिस्पर्धी लेकिन इस टूर्नामेंट में मेरा रिकार्ड अच्छा रहा है। मुझे उम्मीद है कि मैं इस टूर्नामेंट में अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखूंगी।"

ओलम्पिक चैम्पियन मारिन भी इस बार बड़े लक्ष्य के साथ उतर रही हैं। उन्होंने कहा, "मैं सभी बड़े टूर्नामेंट खेले हैं क्योंकि मैं इन टूर्नामेंट की अहमियत को समझती हूं। इसलिए मैं तीन टूर्नामेंट- मलेशिया, इंडोनेशिया और इंडिया ओपन में खेल रही हूं। इससे मुझे ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप में खेलने को मदद मिलेगी।" इस स्पेनिश स्टार का सामना पहले दौर में थाईलैंड की माटाना हेमराचटानुन से होगा।

इस टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाले अन्य भारतीय खिलाड़ियों में विश्व के 10वें नंबर के खिलाड़ी एच.एस. प्रणॉय क्वालीफायर में श्रेयांस जायसवाल से भिड़ेंगे। वहीं सिंगापुर ओपन के विजेता बी.साई प्रणीत इंग्लैंड के राजीव ओसेफ से मुकाबला करेंगे।

भारत में होने वाले इस सालाना टूर्नामेंट की ईनामी राशि 350,000 डालर रखी गई है। इस टूर्नामेंट का नाम बदल कर डॉ. अखिलेश दास गुप्ता के नाम पर रखा गया है जो भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) के पूर्व अध्यक्ष थे, जिन्होंने भारत में इस खेल को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया था।

बीएआई के महासचिव अनूप नारंग ने कहा, "डॉ. अखिलेश दास गुप्ता ने इस टूर्नामेंट को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बड़ा टूर्नामेंट बनाने में मदद की है। उनके नाम पर इस टूर्नामेंट का नाम रखना बनता था। मुझे उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में यह टूर्नामेंट और बड़ा हो जाएगा।"

विश्व बैडमिंटन महासंघ के अध्यक्ष विशु तोलान ने आशा जताई कि टूर्नामेंट में कई कांटे के मुकाबले खेले जाएंगे। उन्होंने कहा, "हम बैडमिंटन को वैश्विक रूप से विकसित करने को लेकर कृतसंकल्प हैँ। एचएसबीसी बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर के तहत आने वाले इंडिया ओपन सुपर 500 इवेंट ने प्रशंसकों को इस खेल को फॉलो करना आसान बना दिया है। मैं खुश हूं कि इंडिया ओपन में प्रतिस्पर्धा का स्तर काफी ऊंचा है और मुझे उम्मीद है कि एक सप्ताह तक जोरदार मुकाबले खेले जाएंगे।"

एसएसबीसी के ग्रुप जनरल मैनेजर और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (भारत) जयंत रिखये ने कहा, "हम एचएसबीसी वर्ल्ड टूर के लिए प्रींसिपल ग्लोबल पार्टनर के तौर पर बैडमिटन विश्व महासंघ से जुड़कर गर्व महसूस कर रहे हैं। हम इस मुहिम में साथ हैं और इस खेल को भारत तथा एशिया के जन-जन तक पहुंचाने को लेकर कृतसंकल्प हैं। भारत में हम खासतौर पर प्रतिष्ठित बीडब्ल्यूएफ अयोजन-इंडिया ओपन-2018 के साथ जुड़कर काफी रोमांचित हैं।"