मुंबई: तटरक्षक ने दुर्घटनाग्रस्त पवन हंस हेलीकॉप्टर के वॉयस डेटा रिकॉर्डर का पता आज लगा लिया है। वहीं हेलीकॉप्टर के मलबों को बरामद करने का काम जारी है। इस बीच, नौसेना ने कल दुर्घटनाग्रस्त हुए पवन हंस हेलीकॉप्टर के लापता चालक दल के सदस्यों का पता लगाने के लिए अपने तलाश अभियान का विस्तार किया है।

भारतीय तटरक्षक के एक प्रवक्ता ने आज बताया, “ ओएनजीसी के लापता चालक सदस्यों की तलाश उनकी बरामदगी तक जारी रहेगी। एयरक्राफ्ट वॉयस डेटा रिकॉर्ड (वीडीआर) बरामद हुआ है और मलबे की तलाश जारी है।” नौसेना ने आज पवन हंस हेलीकॉप्टर के लापता चालक दल के सदस्यों का पता लगाने के लिए अपने तलाश अभियान का विस्तार किया है।

ये भी पढ़े :

मुंबई: अरब सागर में ONGC का हेलिकॉप्टर क्रैश, 4 शव बरामद

यह हेलीकॉप्टर कल मुंबई के तट पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। हेलीकॉप्टर में सात व्यक्ति सवार थे, जिनमें से पांच ओएनजीसी के अधिकारी और दो पायलट थे। यह हेलीकॉप्टर कंपनी के अरब सागर स्थित प्रतिष्ठान के लिए रवाना होने के कुछ मिनट बाद ही मुंबई तट पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। तट रक्षक और नौसेना ने पहले अपने बयान में बताया था कि कल पांच शव बरामद कर लिए गए थे।

नौसेना के एक प्रवक्ता ने आज बताया कि दो फास्ट इंटरसेप्टर क्राफ्ट्स-‘आईएनएस तरासा' और ‘आईएनएस तेग' भारतीय तट रक्षक (आईसीजी) के जहाज ‘समुद्र प्रहरी', ‘अचूक' और ‘अग्रिम' के साथ मिलकर तलाश अभियान में जुटे हुए हैं। प्रवक्ता ने कहा कि कारवार से तलाशी अभियान में मदद के लिये नौसेना का पोत ‘मकर' भी रवाना हो चुका है।

उन्होंने बताया कि आईसीजी का अन्य जहाज ‘सम्राट' भी तलाश और बचाव अभियान में शामिल होने के लिए मुंबई से रवाना हो चुका है। प्रवक्ता ने बताया कि दमन से ‘आईसीजी डॉर्नियर' सहित ओएनजीसी के नौ जहाज भी इस क्षेत्र में तलाश अभियान के लिए तैनात किए गए हैं।

दुर्घटनाग्रस्त हुए पवन हंस हेलीकॉप्टर पर तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) के पांच अधिकारी सवार थे। इनमें से तीन अधिकारी उपमहाप्रबंधक स्तर के थे। यह हेलीकॉप्टर कल सुबह 10 बजकर 40 मिनट पर लापता हो गया था।