जम्मू: J&K के शिक्षामंत्री सैयद अल्ताफ बुखारी ने शनिवार को कहा कि सेना को अपने काम पर ध्यान देना चाहिए और राज्य की शिक्षा प्रणाली में दखल नहीं देना चाहिए।

शिक्षामंत्री का यह बयान भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की ओर से शिक्षा-व्यवस्था पर दिए गए बयान के एक दिन बाद आया है। सेना प्रमुख ने कहा था कि जम्मू एवं कश्मीर के विद्यालयों में विद्यार्थियों को दो अगल-अलग मानचित्रों के बारे में पढ़ाया जाता है -एक भारत का मानचित्र और दूसरा जम्मू एवं कश्मीर का।

एक आधिकारिक कार्यक्रम से इतर शनिवार को संवाददाताओं से बातचीत में बुखारी ने कहा, "शिक्षा के क्षेत्र में हस्तक्षेप करने के बजाय सेना को अपने काम पर ध्यान देना चाहिए।"

मंत्री ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि हर कोई शिक्षा क्षेत्र को लेकर टिप्पणी करता है, जो स्वीकार्य नहीं है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा में काम करने के लिए उन लोगों को छोड़ देना चाहिए, जिनको इसकी जिम्मेदारी दी गई है।

सेना दिवस के पूर्व शुक्रवार को नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए जनरल रावत ने कहा था कि आतंकवाद रोकने के लिए जम्मू एवं कश्मीर में शिक्षा प्रणाली में बदलाव लाने की जरूरत है। उन्होंने मदरसों और मस्जिदों पर भी निगरानी की जरूरत बताई।